जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर हैदराबाद में जूता उछाला गया है। उस वक्त कन्हैया मीडिया से बात कर रहे थे। कन्हैया देश में कुछ यूनिवर्सिटीज़ में केंद्र सरकार के कदमों का विरोध कर रहे थे। पुलिस ने जूता उछालने वाले युवक पर काबू पाकर उसे वहां से हटा दिया। जिस वक्त इस युवक को बाहर ले जाया जा रहा था तो वो बोल रहा था- ‘कन्हैया कुमार जैसे देशद्रोही की बोलने नहीं दिया जाएगा।’

इससे पहले 28 वर्षीय कन्हैया कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि दिल्ली की जवाहर लाल यूनिवर्सिटी और हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में काफी समानता है। यहां के टीचरों और छात्रों को निशाना बनाया जा रहा है।

हैदराबाद में एक सेमिनार में बोलते हुए कन्हैया ने कहा कि विश्वविद्यालयों पर हमला काफी गंभीर है। कन्हैया का कहना है कि यह कहना कि छात्र अपना आपा खो रहे हैं, सही नहीं है। ये कैसे संभव है कि एक जैसी घटनाएं आईआईटी चेन्नई, फर्ग्युसन, एफटीआईआई में घट रही हैं। क्यों कैंपर वारजोन बनते जा रहे हैं। आखिर क्यों भीतरी सुरक्षा व्यवस्था को ऐसे करने के लिए आदेश दे रहा है।

मंगलवार को विश्वविद्यालय में काफी तनाव भरा माहौल बन गया जब छात्रों ने वीसी को छह घंटों तक उनके दफ्तर में बंधक बनाकर रखा। पुलिस के आने पर छात्रों ने पथराव किया और पुलिस को छात्रों को वहां से हटाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। इस घटना के लिए 34 छात्रों के साथ दो प्रोफेसरों को भी गिरफ्तार किया गया। (News24)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें