भोपाल | मध्य प्रदेश में किसान आन्दोलन के हिंसक हो जाने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तब तक उपवास करने के एलान किया है जब तक राज्य में शांति बहाल नही हो जाती. शुक्रवार को उन्होंने इस बारे में बताते हुए कहा था की वो कल से दशहरा मैदान में उपवास के लिए बैठेंगे, वहां सभी किसान नेता बातचीत के लिए निमंत्रित है. जो चाहे वहां आकर बात कर सकता है.

अपनी घोषणा के मद्देनजर शिवराज सिंह आज भोपाल के दशहरा मैदान में उपवास के लिए बैठ गए. मंच पर उनके साथ उनकी पत्नी साधना सिंह, वरिष्ठ बीजेपी नेता बाबूलाल गौर , प्रभात झा समेत राज्य सरकार के कई मंत्री मौजूद है. इस दौरान शिवराज ने किसानो से शांति की अपील करते हुए कहा की उनकी सरकार किसानो की सच्ची हमदर्द है. इसके अलावा शिवराज ने किसानो को बताया की उनकी सरकार ने उनके लिए कितना काम किया है.

और पढ़े -   क्या लाल किले से नोट बंदी और कालेधन पर झूठ बोल गए पीएम मोदी ?

उन्होंने कहा की प्रदेश में कुछ लोग माहौल बिगड़ने की कोशिश कर रहे है. मैं उनसे कहना चाहता हूँ की मेरे मध्य प्रदेश में आग मत लगाओ. किसानो को तभी आन्दोलन करना चाहिए जब सरकार उनसे बात करने के लिए तैयार न हो. हम तो बात करने के लिए तैयार है. आपको आपकी फसलो का लाभकारी मूल्य मिले यह हम सुनिश्चित करेंगे. इसके अलावा किसान और उपभोक्ता के बीच बिचौलियों को खत्म किया जाएगा.

और पढ़े -   सानिया ने दी स्वतंत्रता दिवस की बधाई, भड़के पाकिस्तानी फेंस

इन सबके बीच शिवराज ने अपनी सरकार की उपलब्धिया भी गिनाई. उन्होंने कहा की हमने मालवा को रेगिस्तान बनने से बचाया. वहां नर्मदा का पानी पहुँचाया गया. हमने प्रदेश की 40 लाख हेक्टयर जमीन में सिंचाई की सुविधा पहुंचाई. इसके अलावा जब जब किसानो पर संकट आया मैं उनके बीच गया. प्रदेश में इस बार फसल का बम्पर उत्पादन हुआ है और मैं आपको यकीन दिलाता हूँ की अपने पसीने को बेकार नही जाने दिया जाएगा.

शिवराज ने कहा की हम प्याज के बम्पर उत्पादन के बावजूद 8 रूपए किलो प्याज खरीदेंगे. इसके अलावा, मुंग, उड़द, तुअर की सरकारी खरीद की जाएगी. एक तरफ शिवराज किसानो को अपनी उपलधि बता रहे थे तो दूसरी तरफ उनकी सरकार में कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा की एमपी में किसान की कर्ज माफ़ी का स्थान नही है क्योकि हमने किसान से ब्याज नही लिया है, तो फिर किस बात की कर्ज माफ़ी?


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE