30in_shashi_tharoo_1252687f

नई दिल्ली | कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर अपनी बहतरीन वक्ता शैली के लिए जाने जाते है. वो अपने शब्दों से किसी तारीफ कर रहे है या किसकी टांग खिचाई कर रहे है , यह पता लगाना काफी मुश्किल होता है. जैसे अभी उन्होंने अपने इंटरव्यू में बड़ी ही साफगोई से मोदी की तारीफ कर उनकी विदेश निति पर ही सवाल उठा दिए.

सीएनएन-न्यूज़ 18 को दिए गए इंटरव्यू में शशि थरूर ने पहले मोदी की तारीफों के पुल बांधे फिर कई मुद्दों पर उनकी टांग खिंचाई की. अब यह समझ नही आ रहा है की वो मोदी की तारीफ करना चाहते थे या उनकी बुराई. इसका अंदाजा आप लोग ही बेहतर तरीके से लगा सकते है. इस इंटरव्यू में जब थरूर से मोदी के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा की वो काफी उर्जावान है. वो विदेश यात्राओ से थकते नही है.

थरूर मोदी की तारीफ करते यही नही रुके उन्होंने आगे कहा की थकावट भरी विदेश यात्राओं के बीच उनकी आवाज में वो ही उर्जा और जोश दिखता है. विपक्ष में होने के बावजूद हम उनसे कुछ मुद्दों पर असहमत हो सकते है लेकिन उनकी कुछ बाते ऐसी है जो तारीफ के काबिल है. शशि थरूर जब यह कह रहे थे तो लग रहा था वो मोदी के बहुत बड़े प्रसंशक बन गए है.

शशि थरूर ने आगे सर्जिकल स्ट्राइक पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा की व्यक्तिगत तौर पर मैं मानता हूँ की सेना अपने नागरिको से कभी झूठ नही बोलेगी और DGMO ने जो कुछ कहा सबूत के तौर पर उनके शब्द ही मेरे लिए काफी है. इसलिए सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत जारी करना बिलकुल भी बुद्धिमता नहीं होगी, लेकिन पाकिस्तान के झूठ को बेनकाब करने के लिए अगर मोदी सरकार सबूत जारी करती है तो इसमें कोई बुराई भी नही है.

बलूचिस्तान पर मोदी की विदेश निति पर सवाल उठाते हुए थरूर ने कहा की कश्मीर के साथ बलूचिस्तान का मुद्दा उठाना सही नही है. वो उनका अंदरूनी मसला है. अन्तराष्ट्रीय स्तर पर बलूचिस्तान का मुद्दा भारत के पक्ष को कमजोर करता है. इसके अलावा पाकिस्तान को दुनिया में अलग थलग करना संभव नही है क्योकि चीन और अमेरिका के हित पाकिस्तान से जुड़े हुए है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें