jafar

केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में ट्रिपल तलाक के विरोध में हलफनामा दाखिल करने के बाद मुस्लिम संगठन केंद्र सरकार के विरोध में खुलकर उतर गए हैं.

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जिलानी ने इस मुद्दे पर केंद्र सरकार से जनमतसंग्रह कराने की सलाह दी हैं. उन्होंने कहा कि शरीया कानून को बदला नहीं जा सकता और केंद्र सरकार तीन तलाक के मुद्दे पर जनमत संग्रह करा सकती है.

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि 90 फीसदी मुस्लिम महिलाएं शरीया कानून का समर्थन करती हैं. इसके लिए केंद्र सरकार तीन तलाक के मुद्दे पर जनमत संग्रह भी करा सकती है.

उन्होंने कहा कि इस्लाम में तलाक को बुरा समझा जाता हैं. उन्होंने आगे कहा कि तीन तलाक पर रोक लगाकर समान नागरिक संहिता लागू करना चाहती हैं. भारत और पाक रिश्तों को लेकर उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश को सबक सिखाने के लिए हर मुस्लिम देश के साथ है.

और पढ़े -   दशहरे और मोहर्रम पर नही बजेगा डीजे और लाउडस्पीकर, योगी सरकार ने दुर्गा प्रतिमा और ताजिया की ऊंचाई भी की निर्धारित

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE