नई दिल्ली मशहूर व्यंग्यकार शरद जोशी के परिवार, जानेमाने तमिल लेखक बी जयमोहन और पत्रकार वीरेंद्र कपूर ने पद्म पुरस्‍कार लेने से इनकार कर दिया है। सोमवार को पद्म पुरस्‍कारों की सूची जारी किए जाने से पहले ही इन लोगों पुरस्कार लेने से इनकार कर दिया था।

शरद जोशीजोशी के साथी सुरेश चन्‍द्र म्‍हात्रे ने बताया कि 1992 में भी जोशी को यह पुरस्कार देने का प्रस्ताव रखा गया था, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया था।

और पढ़े -   रेल हादसों की नैतिक जिम्मेदार लेते हुए प्रभु ने की इस्तीफे की पेशकश, नितिन गडकरी को सौपा जा सकता है रेलवे का कार्यभार

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पुरस्कार लेने से इनकार करने वाले लेखक जयमोहन ने कहा कि उन्‍होंने हिंदू समर्थक माने जाने की आशंका के कारण पुरस्‍कार से इनकार किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि यह उनके लिए गर्व का मौका है। उन्‍होंने अपने फेसबुक पोस्‍ट में लिखा, ‘अवॉर्ड लेने से दूसरे लोगों को मुझे हिंदू समर्थक कहने का मौका मिल जाता। मैं न तो सत्‍ता में बैठे लोगों और न ही देश विरोधियों के कैंप का हिस्‍सा बनना चाहता हूं।

और पढ़े -   अमित शाह को जेल पहुँचाना मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी उपलब्धि: राणा अय्यूब

पत्रकार वीरेंद्र कपूर ने कहा कि वह सरकार के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन पिछले 40 साल उन्होंने किसी भी सरकार से कोई सम्‍मान नहीं लिया है। साभार: नवभारत टाइम्स


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE