shahb

बिहार के पूर्व RJD नेता शहाबुद्दीन को सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी कर पूछा कि क्यों ना आपको सीवान जेल से तिहाड़ जेल भेजा जाए? साथ ही कोर्ट ने इस मामलें में बिहार सरकार और केंद्र सरकार को भी नोटिस जारी किया है. अदालत ने सभी पक्षों से चार हफ्तों में जवाब मांगा है.

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को शहाबुद्दीन के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई की. इन याचिकाओं में शहाबुद्दीन को सीवान जेल से तिहाड़ जेल भेजे जाने वाली याचिका भी शामिल थी. दरअसल पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी आशा रंजन और सीवान के व्यवसायी चंदा बाबू ने शहाबुद्दीन के सीवान जेल में रहने पर जान का भय और केस प्रभावित होने की आशंका जताते हुए उनके स्थानांतरण की मांग की थी.

इन सभी ने याचिका में कहा था कि शहाबुद्दीन के खिलाफ दर्जनों आपराधिक मामले लंबित हैं. शहाबुद्दीन के सीवान जेल में रहते हुए शिकायतकर्ताओं और गवाहों को जान का खतरा है. लिहाजा शहाबुद्दीन को सीवान से दिल्ली की तिहाड़ जेल स्थानांतरित किया जाए.

हालांकि बिहार सरकार ने इस मामलें को लेकर कहा कि विशेष अदालत लंबित मामलों में सुनवाई जेल से ही कर रही है, फिर भी सुप्रीम कोर्ट जो चाहे निर्णय कर सकती है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें