लखनऊ से दिल्ली जाने वाली इंडिगो फ्लाइट पर सफ़र कर रहे मिल्ली गज़ट के एडिटर डॉ. ज़फ़रुल इस्लाम को बीती रात को धार्मिक भेदभाव का सामना करना पडा. फ्लाइट नंबर 6E-633 में सफ़र करने जा रहे एडिटर के साथ लखनऊ एअरपोर्ट पर बद्सलूक़ी की गयी.

zik 2

उन्होंने बताया कि इंडिगो फ्लाइट के ग्राउंड स्टाफ़ ने उनके साथ भेदभाव वाला बर्ताव किया. सिर्फ़ उन्हीं से हैण्ड बैगेज  को तोल रखने के लिए कहा गया. वो आदतन कम सामान ले कर चलने के आदि हैं इसलिए उनके पास और कोई सामान नहीं था. उन्हें बताया गया कि हैण्ड बैगेज का वज़न 7 किलो से ऊपर नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि कुछ सामान जैसे लैपटॉप वो अपने हाथ में ले सकते हैं लेकिन इस पर भी स्टाफ़ राज़ी नहीं हुआ.

स्टाफ़ ने उनके सामने सिर्फ़ एक ही आप्शन रखा और वो था हैण्ड-बैगेज का “चेक-इन“, जिसके लिए डॉ. ज़फ़ारुल इस्लाम राज़ी नहीं थे और उन्होंने विरोध जताया. इसके बाद एक सीनियर स्टाफ़ से उन्हें बात करने के लिए कहा गया और एक सिख सज्जन उनसे बात करने आये लेकिन उन्होंने भी वही बातें कीं जो उनका जूनियर स्टाफ़ कर रहा था. एडिटर ने विरोध जताया कि कई लोग उनसे भारी बैग लिए हैं और यहाँ तक कि बहुत से एक हैण्ड-बैगेज से ज़्यादा लिए हैं, यहाँ तक कि बहुत से लोग तीन तीन बैगेज लिए हैं लेकिन इंडिगो स्टाफ़ इस पर भी मानने को राज़ी न हुआ और उन्हें कुछ सामान एक असुरक्षित जगह पर छोड़ना पड़ा.

दिल्ली पहुँचने के बाद उन्होंने इंडिगो के ग्राउंड स्टाफ़ से अपनी शिकायत दर्ज करायी. उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि उनके साथ दाढ़ी की वजह से भेदभाव किया गया जबकि कई दुसरे मुसाफ़िर उनसे भारी हैण्ड-बैगेज लिए थे, कई तो एक से ज़्यादा हैण्ड-बैगेज लिए थे. उन्होंने कहा कि ई-टिकट पे ऐसा कहीं नहीं लिखा कि सिर्फ़ सात किलो का ही हैण्ड बैगेज ही ले जाया जा सकता है. साभार: siasat.com

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE