संघ के आदेशनुसार गुड़गांव का नाम गुरुग्राम करने के बाद अब अहमदाबाद का नाम कर्णावती, हैदराबाद का नाम भाग्यनगर और औरंगाबाद का नाम संभाजी नगर करने की कोशिश की जा रही हैं. पिछले महीने ही गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम रखा गया था.

इस तरह शहरों का नाम बदलकर भारत के इतिहास को दोबारा लिखने को संघ के सांस्कृतिक दबाव को बढ़ाने की कोशिश के तोर पर देखा जा रहा हैं. संघ के नेताओं का मानना है कि इन शहरों के नाम अपने इतिहास और संस्कृति से जुड़े रहने चाहिए और संघ इन शहरों को इनके ऐतिहासिक नामों से ही बुलाता है.

और पढ़े -   मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सुप्रीम कोर्ट में दिए गए बयान पर भडके जावेद अख्तर, बताया बेतुका

संघ के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘हम शहरों को उनके पुराने और ऐतिहासिक नामों से बुलाते हैं, न कि घुसपैठियों द्वारा दिए नामों से. एक आजाद देश के तौर पर हमें अपनी संस्कृति पर गर्व होना चाहिए.’ आरएसएस की तरफ से सुझाए गए नामों की लिस्ट में केरल का नाम भी है, जिसे बदलकर केरलम करने के लिए कहा गया है.

और पढ़े -   जंतर-मंतर पर दलितों का प्रदर्शन, देशव्यापी स्तर पर अब दलित करेंगे हिन्दू धर्म का त्याग

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE