लखनऊ. देशभर में भारत माता की जय बोलने को लेकर चल रहे विवाद को राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने सोमवार को विराम दे दिया। भागवत ने यहां कहा कि आपके आदर्शों और उपलब्धियों को देखकर लोग खुद ही भारत माता की जय बोलें, इसे थोपने की जरुरत नहीं है। भागवत ने ये बात सोमवार को यहां भारतीय जनसंघ का उद्गम स्थल कहे जाने वाले रज्जू भैया स्मृति भवन के उद्घाटन कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि अब योजना अनुसार यहां से अपना काम चलेगा। यहां वहीं काम होना चाहिए संकल्प लेकर जाएं, इससे जुडे़ महापुरुषों ने यहां रह कर अपने जीवन आचरण से किया, उन आदर्शों को आगे बढ़ाएंगे। यदि कोई आए तो उसे केवल इस भवन में स्मृतियों तक न सीमित करें बल्कि उसे आपके कार्यों से उन महापुरुषों की अनुभूति होनी चाहिए।

और पढ़े -   सेना जीप के आगे बांधे जाने वाले बयान पर अरुंधती राय ने परेश रावल को दिया जवाब

समाज निर्माण के लिए अधिक योगदान करें

उन्होंने कहा कि व्यक्ति जितना खाता है उससे ज्यादा कमाता है। इसलिए समाज ने आपको जिस स्थान पर रखा है उस समाज के निर्माण में उससे अधिक योगदान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि दुनिया अपने दुख के निजात के लिए बहुत से प्रयोग करके थक गई, भगवान को मानकर और न मानकर भी देख लिया। अब वो तीसरा रास्ता देख रही है। बिना पराधीन किए अपने जीवन से पृथ्वी के सभी मानवों को दिशा देना भारत की परंपरा रही है। तेरा-मेरा कम बुद्धि के लोग करते हैं, उदार व्यक्ति के लिए सभी अपने होते हैं।

और पढ़े -   महाराष्ट्र में हुआ अरहर दाल घोटाला, सरकार को लगाया 400 करोड़ का चूना

भारतीय सभ्यता को दुनियाभर में फैलाएं

उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य समाज को लायक बनाने के लिए ऐसे व्यक्तियों का समूह खड़ा करना है, जो संपूर्ण दुनिया में भारतीय सभ्यता और संस्कृति को शीर्ष पर पहुंचाए, जिससे आपके आदर्शों और उपलब्ध्यिों और आदर्शों को देखकर लोग स्वतः ही भारत माता की जय बोलने लगे, इसे किसी पर थोपना नहीं है।

एतिहासिक है ये भवन

किसान संघ के क्षेत्रीय संगठन मंत्री वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि भागवत यहां दो दिवसीय दौरे पर आए हैं। उन्होंने जिस भवन का उद्घाटन किया उसे 2008 में किसान संघ को सौंपा गया था। इस नवनिर्मित भवन का नाम राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के चौथे सर संघ चालक प्रो. राजेन्द्र सिंह उर्फ रज्जू भैया के नाम पर रखा गया है। इससे पहले इस भवन में जनसंघ का कार्यालय हुआ करता था। इस भवन में रज्जू भैया, भाऊराव देवरश, श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय, नानाजी देशमुख, अटल बिहारी वाजपेयी सहित तमाम हस्तियां रुकती रही हैं। उत्तर भारत में संघ कार्य का विस्तार केन्द्र यही कार्यालय हुआ करता था। इस मौके पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी, मेयर दिनेश शर्मा और संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ता मौजूद थे। (Patrika)

और पढ़े -   योगी राज में खनन माफिया बेख़ौफ़, हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओ के साथ की मारपीट, एक घायल

 Nobody Needs To Be Forced To Chant Bharat Mata Ki Jai Says Bhagawat


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE