दिल्ली स्थित केंद्रीय विश्वविद्यालय जामिया मिल्लिया इस्लामिया में आरएसएस के सहयोगी संगठन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम)  की और से आयोजित इफ्तार पार्टी में शामिल हुए संघ के नेता इंद्रेश कुमार ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है.

उन्होंने कहा कि पैगंबर मोहम्मद (सल्ल.) और उनके परिजनों को मांस खाने से सख्त नफरत थी. लेकिन उनको दूध से प्यार था और वो खुद कहते थे कि मांस खाना बीमारी हैं. इंद्रेश कुमार यहीं नहीं रुके उन्होंने तुलसी के पौधे को जन्नत का पौधा बताते हुआ कहा कि इसे अरबी में रेहान यानी जन्नत का पौधा कहा गया है.

और पढ़े -   राजनीतिक दलों में कम हो रही नैतिकता, चुनाव जीतने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार -चुनाव आयुक्त

उन्होंने मुस्लिमों से अपील की कि मुस्लिम लोगों को भी अपने घर में तुलसी का पौधा लगाना चाहिए. इंद्रेश कुमार ने श्रोताओं से कहा कि भारतीय मुसलमानों को इस्लाम को “खूबसूरत” बनाना चाहिए न कि “बदसूरत.”

हालांकि इस दौरान उनका कार्यक्रम में जमकर विरोध हुआ. जिसके चलते कार्यक्रम में जामिया मिल्लिया इस्लामिया के वाइस-चांसलर तलत अहमद भी शामिल नहीं हुए. वहीँ इंद्रेश कुमार को इफ्तार में बुलाए जाने का विरोध कर रहे छात्रों और पुलिस में झड़प भी हुई.

और पढ़े -   दिल्ली के पांच सितारा होटल में सामने आया कलयुगी दुशासन , महिला कर्मी की साडी उतारने का किया प्रयास

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE