“देश में भाजपा की सरकार है। इससे पहले कांग्रेस की थी। दोनों सरकारों में गौ-हत्या होती आरही है। फिर कांग्रेस और भाजपा में फर्क क्या है। भाजपा ने पहले कहा कि राम मंदिर बनाएंगे, दफा 370 हटाएंगे। अब कहती है कि हम उसपर चर्चा करेंगे।” शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती

swaroopanand-saraswati1

हिंदी डेली siasat.com की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि आरएसएस हिंदू का नाम लेता है, लेकिन हिंदुत्व से इनका कोई लेना-देना नहीं है। ये हम लोगों को धोखा दे रहे हैं कि हम हिंदू धर्म की रक्षा करने आए हैं। यह और ज्यादा घातक है। आरएसएस के लोगों ने गणवेश बदल दिया। डॉ. हेडगेवार ने जो गणवेश तय किया था, उसे बदलने का इन्हें क्या हक है। शंकराचार्य गुरूवार को अनंतपुर में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने ये भी कहा कि संघ अपनी शाखाओं में क्या बता रहा है, जबकि उनके लीडर खुद कहते हैं कि अरुणाचल प्रदेश में तीन हजार स्वयंसेवक गोमांस खाते हैं। तो ये कौनसा कल्चर सिखा रहे हैं। हमारे बच्चों को बिगाड़ रहे हैं। कम्युनिस्ट भी किसी को अपनी पार्टी में शामिल करने से पहले उसे कम्युनिज्म की जानकारी देते हैं, फिर संघ अपने स्वयंसेवकों को राष्ट्रभक्ति की बात क्यों नहीं बताता है?


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें