dalit_student_rohit_vemula_640x360__nocredit

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रहें रोहित वेमुला की मौत से जुडी जांच रिपोर्ट को केंद्र सरकार ने सार्वजनिक करने से मना कर दिया हैं. आरटीआई के जरिये मांगी गई जानकारी में केंद्र ने कहा कि संबंधित फाइल अभी ‘विचारार्थ’ है, इसलिए रिपोर्ट की प्रति उपलब्ध नहीं कराई जा सकती है.

पीटीआई’ की ओर से दाखिल एक आरटीआई के जवाब में मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने  कहा, ‘संबंधित फाइल अभी विचारार्थ है, इसलिए इस वक्त रिपोर्ट की प्रति उपलब्ध नहीं कराई जा सकती है.’

और पढ़े -   मुसलमानों पर हो रहे हमलो के बीच मोदी की चुप्पी पर उठ रहे सवाल, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा आया बचाव में

इसके अलावा दी गई जानकारी में ये भी उल्लेख नहीं किया गया कि  सूचना का अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के किस प्रावधान के तहत यह सूचना नहीं दी जा सकती. नियमानुसार सबंधित विभाग को जिस प्रावधान के तहत सूचना रोकी जा रही उसका भी उल्लेख करना होता हैं.

मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि आयोग ने वेमुला के दलित होने से इंकार करते हुए उसकी आत्महत्या के लिए व्यक्तिगत कारणों को जिम्मेदार ठहराया है. साथ ही वेमुला की मौत के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन को आरोप से मुक्त करार दिया गया है.

और पढ़े -   जानिये क्या हुआ जब योग करते हुए स्वास्थ्य मंत्री का हाथ छु गया वसुंधरा राजे का हाथ..

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE