jafar

मौलाना आजाद उर्दू विश्वविद्यालय के कुलपति और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के करीबी ज़फर सरेशवाला ने अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के अल्पसंख्यक दर्जे के मुद्दे को लेकर कहा कि मुस्लिम समुदाय NDA सरकार के साथ कभी संवाद ही कायम नहीं किया.

उन्होंने कहा कि “हम लोगों ने सरकार के साथ संवाद बनाने की जगह यह मान लिया कि सरकार तो मुस्लिमों के खिलाफ टकराव बनाये हुए है. गलती हमारे समुदाय की है कि हमने राष्ट्रीय नेतृत्त्व के साथ कभी भी अपने दृष्टिकोण को पेश ही नहीं किया.”

और पढ़े -   सीएजी की रिपोर्ट में खुलासा - यात्रियों को खाने लायक भोजन भी नहीं दे पा रहा रेलवे

गौरतलब रहें कि केंद्र सरकार ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी कभी मुस्लिम शैक्षणिक संस्थान था ही नहीं. साथ ही कानून मंत्रालय ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को ये राय भी दी थी कि वो जामिया मिल्लिया इस्लामिया का अल्पसंख्यक दर्जा भी हटा सकती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE