पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय मछुआरे भारत के लिए खतरा साबित हो सकते हैं। इस बात का खुलासा खुफिया एजेंसी IB ने किया है। दरअसल पाकिस्तान ने अपनी जेलों में कैद भारतीय मछुआरों को हाल ही में रिहा किया है और आशंका जताई जा रही है कि ये मछुआरे पाकिस्तान की लिए जासूसी कर सकते हैं। इस खतरे को देखते हुए खुफिया एजेंसी IB ने सभी राज्यों की पुलिस को ऐसे लोगों की मॉनिटरिंग के लिए कहा है।

release-fishermen-will-be-dangerous-for-india-says-ib-48772

IB सूत्रों का कहना है कि, पाक जेल से रिहा होने वाले मछुआरे भारत की सिक्युरिटी के लिए खतरा हो सकते हैं। काफी समय तक वहां की जेलों में बंद रहने के कारण उनके रैडिकलाइज होने का डर है। ऐसे में इनका इस्तेमाल वहां के टेरर ग्रुप्स और खुफिया एजेंसियां भारत के खिलाफ कर सकती हैं। IB ने हाल ही में अपने एक रिव्यू में सभी स्टेट के डीजीपी को ऐसे लोगों की एक्टिविटी पर लगातार नजर रखने को कहा है।

बता दें कि ये अहम ईश्यू बीते साल दिसंबर में सिक्युरिटी कॉन्फ्रेंस में भी उठा था। इस कॉन्फ्रेंस में नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे। पिछले कुछ महीनों में पाकिस्तान ने 86 भारतीय मछुआरों को जेल से रिहा किया है। ये सभी कराची की मलीर जेल से छोड़े गए थे। पाकिस्तान से रिहा हुए ज्यादातर मछुआरे गुजरात से ताल्लुक रखते थे। कुछ महाराष्ट्र और वेस्ट बंगाल से भी थे। (firstindianews.com)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें