राजनाथ सिंह

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्याल में जारी घटनाक्रम को लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज़ सईद से जोड़ने के गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बयान पर सियासत तेज़ हो गई है. रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा जेएनयू में छात्रों के प्रदर्शन को पाकिस्तानी चरमपंथी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज़ सईद का समर्थन प्राप्त है.

सीतीराम येचुरी का ट्वीट

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा है कि राजनाथ सिंह को अपने बयान के समर्थन में सबूत पेश करने चाहिए. उन्होंने कहा है कि शनिवार को जब वो गृहमंत्री से मिले थे तब उन्होंने हाफ़िज़ सईद के नाम का कोई ज़िक्र नहीं किया था, बल्कि सिर्फ़ प्रदर्शन में दिए गए नारों के बारे में बात की थी.

और पढ़े -   गौरक्षकों के डर से पहलू खान के ड्राइवर ने छोड़ा अपना मवेशी पहुंचाने का काम

ओमर अब्दुल्ला का ट्वीट

उन्होंने लिखा, “देश के गृहमंत्री के लगाए गए आरोप की गंभीरता को देखते हुए, हम चाहेंगे कि वे इस संबंध में देश की जनता के साथ सबूत साझा करें.” उधर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा, “गृहमंत्री को इकट्ठा किए गए सबूत जनता के सामने पेश करने चाहिए, जिसके आधार पर उन्होंने जेएनयू के छात्रों पर आरोप लगाए हैं.”

और पढ़े -   नहीं रुक रही मोदी सरकार की हादसों वाली रेल, 2 ट्रेनों के पहिए पटरियों से उतरे

अरविंद केजरीवाल का ट्वीट

वहीं वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई के एक ट्वीट को दोबारा ट्वीट कर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, “जो भी हो रहा है वह बेहद डरावना है.” सरदेसाई ने लिखा था, “हाफ़िज़ सईद के एक झूठे ट्विटर हैंडल को ले कर गृहमंत्री का बयान? क्या यह बनाना रिपब्लिक है? कृपया कुछ तो सोच लें.”

जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तारी का तीखा विरोध हो रहा है. जेएनयू में रविवार को छात्रों और शिक्षकों ने मानव श्रृंखला बनाई और पुलिस की कार्यवाई का विरोध किया. (बीबीसी हिंदी)

और पढ़े -   गाय पर आस्था रखने वाले लोग हिंसा नहीं करते: मोहन भागवत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE