कोलकाता। बीरभूम जिले में सड़क हादसे में युवक की मौत के बाद लोगों ने जमकर हंगामा किया। बेकाबू भीड़ ने बसों को निशाना बनाया और पुलिस की गाड़ी में आग लगा दी। पुलिसकर्मी किसी शख्स का पीछा कर रहे थे, उसी दौरान युवक उनकी गाड़ी के चपेट में आ गया। युवक की मौत के बाद भीड़ इतनी हिंसक हो गयी कि पुलिस वालों को जान बचाकर मौके से भागना पड़ा।

और पढ़े -   नहीं रुक रही मोदी सरकार की हादसों वाली रेल, 2 ट्रेनों के पहिए पटरियों से उतरे

इससे पहले मालदा में हिंसक भीड़ ने जमकर हंगामा किया था। बड़े पैमाने पर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। मालदा हिंसा की जांच के लिए भाजपा के प्रतिनिधिमंडल को दौरा करने से ममता सरकार ने रोक दिया था।

मालदा हिंसा भाजपा सांप्रदायिक दंगा करार दिया था, वहीं पश्चिम बंगाल सरकार का कहना है कि मालदा हिंसा कानून व्यवस्था का मुद्दा था। साभार: नईदुनिया

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE