वहाबी, सलाफी प्रचारक जाकिर नाइक के खिलाफ अब मुस्लिम उलेमाओं ने भी अपना मोर्चा खोल दिया हैं. आॅल इंडिया उलेमा मशाईख बोर्ड नामक मुस्लिम संगठन ने जाकिर नाइक पर कुरान और हदीस की गलत व्याख्या कर मुसलमानों को गुमराह करने का आरोप लगाया हैं.

ऑल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड ने दरगाह हजरत निजामुद्दीन औलिया में जाकिर नाइक के आपत्तिजनक बयानों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी जाकिर नाइक को बैन करो, गुस्ताखे रसूल को बैन करो जैसे नारे लिखी तख्तियां लहरा रहे थे.

और पढ़े -   फिलिस्तिन्नी कैदियों के भूक हड़ताल के समर्थन में भारत में दिल्ली सहित कई जगहों पे हुए आयोजन.
rr
मुरादाबाद में जाकिर नाइक के विरोध करते AIUMB के कार्यकर्त्ता

ऑल इंडिया उलेमा मशाईख बोर्ड के राष्ट्रीय सचिव शाह हसन जामी ने कहा कि डॉ जाकिर नाईक धर्म प्रचारक नहीं, बल्कि इंसानियत का दुश्मन है। जब वह पीस टीवी पर भाषण देता है तो भाषणों से जितनी भावना गैर मुस्लिमों की आहत होती हैं, उससे कहीं ज्यादा मुसलमानों की भावना आहत होती है. उन्होंने कहा जाकिर नाइक वहाबी विचारधारा को मानता है जो कि आतंकवाद को बढ़ावा देती है.

और पढ़े -   सुरक्षा के नाम पर अब मोदी सरकार, रेलवे टिकटों पर वसूलेगी दो फीसदी सेफ्टी सेस

उहोने आरोप लगाया कि जाकिर नाईक बड़ी बेबाकी से कुरान और हदीस की गलत व्याख्या करके न सिर्फ मुसलमानों को गुमराह करते हैं, बल्कि इस्लाम, पैगंबर साहब और उनके पारिवारिक सदस्यों का भी अपमान करते हैं. मुसलमानों के विरोध की वजह से उनके कई कार्यक्रम भी रद्द हो चुके हैं.

ऑल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड ने जाकिर नाईक के खिलाफ जांच में तेजी लाने, पीस टीवी पर रोक लगाने और उनके विदेशी धन के स्रोतों की भी जांच करवाने की सरकार से मांग की है.

और पढ़े -   साबरमती एक्सप्रेस ब्लास्ट मामलें में 16 साल बाद आतंक के आरोप से गुलज़ार वानी बाइज्ज़त बरी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE