नई दिल्ली: देश के जाने माने वकील और पूर्व कानुन मंत्री राम जेठमलानी का कहना है कि पैगम्बर मुहम्मद (ﷺ) की शक्शियत और उनके दिखाए रास्ते से वह बहुत प्रभावित हैं और यही वजह है कि वह इस्लाम और इस्लाम को मानने वाले लोगों से इतना करीबी रिश्ता रखते हैं। यह बात यहाँ अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को माइनॉरिटी स्टेटस देने की मांग का समर्थन करने पहुंचे जेठमलानी ने कही।

और पढ़े -   झारखंड हत्याकांड पर पत्रकार सागरिका घोष ने कहा - भारत सरकार जागो, भीड़ मुसलमानों को मार रही

jeth

जेठमलानी ने कहा कि इस्लाम में शिक्षा देने को लेकर जो बातें और हिदायतें दी गयी हैं वह आज के वक़्त के हिसाब से भी बिलकुल ठीक बैठती हैं और ऐसी नायाब सोच के मालिक पैगम्बर मुहम्मद (ﷺ) का वह दिल से सम्मान करते हैं”

इसके इलावा उन्होंने अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को माइनॉरिटी स्टेटस देने की मांग का समर्थन देते हुए कहा कि यह बात किसी से छुपी हुई है कि मैं एक हिन्दू हूँ लेकिन मैं इस यूनिवर्सिटी को बनाने वाले सर सईद अहमद खान की मैं इज़्ज़त करता हूँ जिन्होंने इस कड़ी का पहला कॉलेज जिसका नाम एंग्लो-मोहम्मदन कॉलेज रखा गया था खोला था। वही एंग्लो-मोहम्मदन कॉलेज आज अलीगढ यूनिवर्सिटी के नाम से जाना जाता है। अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी मुसलमानों की तरफ से मुसलमानों को शिक्षा देने के लिए बनायी गयी थी

और पढ़े -   दलितों के धर्म परिवर्तन को लेकर हिन्दू युवा वाहिनी का हंगामा, केरल के व्यक्ति को बनाया बंधक

इसके इलावा जेठमलानी ने कहा कि उन्होंने सभी मजहबों के बारे में पढ़ा है लेकिन सिर्फ इस्लाम में वह बात है सबको अपनी तरफ खींचती है और सही राह दिखाती है।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE