bah

ओड़िशा के कालाहांडी जिले में रहने वाले आदिवासी दाना मांझी की 42 वर्षीय पत्नी की टीबी के कारण अस्पताल में मौत हो गई थी. अस्पताल से अपने गाँव पत्नी की लाश को ले जाने के लिए एम्बुलेंस नहीं मिलने के कारण दाना मांझी को पत्नी की लाश कंधें पर रखकर 12 किमी पैदल सफ़र करना पड़ा था.

इस खबर को दुनिया भर के मीडिया ने कवर किया था. जब इस खबर को बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने देखा तो उनका दिल पसीज गया था और उन्होंने भारत स्थित दूतावास को दाना मांझी की आर्थिक मदद करने के लिया आदेश दिया था. जिसके बाद दाना मांझी की प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा की और जारी 8.9 लाख रुपए की आर्थिक मदद की गई.

दाना मांझी को प्रिंस खलीफा बिन सलमान की और से जारी 8.9 लाख रुपए का चेक प्राप्त हो गया हैं. दाना मांझी को दिल्ली में बनी बहरीन एंबेसी से गुरुवार (15 सितंबर)को चेक प्राप्त हुआ हैं. चेक लेने के लिए मांझी को एयर इंडिया की फ्लाइट से भुवनेश्वर से दिल्ली लाया गया था. इस दौरान उनकी सबसे छोटी बेटी साथ थी.

चेक मिलने के बाद मांझी ने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं। मैं इस पैसे को बैंक में रखूंगा और अपनी तीनों बेटियों की पढ़ाई के लिए इसे इस्तेमाल करूंगा. मैं आशा करता हूं कि उन्हें अच्छी शिक्षा और नौकरी मिलेगी.’


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें