इसी महीने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल समाप्त होने वाला है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी जमकर तारीफ़ की. मोदी ने कहा कि उनके लिए प्रणब मुखर्जी पिता की तरह रहे हैं.

‘प्रेजिडेंट अ स्टेट्समैन’ के विमोचन के दौरान पीएम मोदी ने कहा, ‘इस किताब में मौजूद तस्वीरों में हम अपने राष्ट्रपति के मानवीय पहलू भी देखने को मिलेंगे और हमें उन पर गर्व होगा.’ वहीं राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने पीएम की तारीफ करते हुए कहा, ‘निश्चित तौर पर हमारे विचारों में भिन्नता है, लेकिन इसने प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के संबंधों को प्रभावित नहीं किया.

और पढ़े -   ओबीसी आरक्षण पर बड़ा फैसला: केंद्र ने क्रीमीलेयर सीमा को 6 लाख से 8 लाख सालाना किया

मोदी ने आगे कहा, ‘राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मुझे पिता की तरह रास्ता दिखाया. मेरे जीवन का बड़ा सौभाग्य रहा कि मुझे प्रणब दादा की उंगली पकड़ कर दिल्ली की जिंदगी में स्वयं को सेट करने की सुविधा मिली. मेरा सौभाग्य है कि मैंने राष्ट्रपति मुखर्जी के साथ काम किया.

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ”हर मुलाक़ात में वह पिता की तरह पेश आते हैं. मैं बहुत अंतर्मन से कह रहा हूं. कोई पिता अपने संतान की जैसे देखभाल करता वैसे वह मेरा भी करते रहे हैं. वो कहते थे- ‘देखो मोदी जी आधा दिन तो आराम करना ही पड़ेगा. कुछ कार्यक्रम कम करो. तुम अपनी तबीयत संभालो. जीत और हार तो चलती रहती है लेकिन शरीर का भी देखोगे या नहीं.’ यह व्यक्तित्व, संबंध एक प्रेरणा का काम करता है.”

और पढ़े -   तीन तलाक: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बोला दारुल उलूम कहा, शरियत में कोई दखलअंदाजी बर्दाश्त नही

वहीं राष्ट्रपति ने इस बात का खुलासा किया कि उनके और पीएम के बीच कुछ वैचारिक मतभेद रहे हैं, लेकिन दोनों ने अपने-अपने मतभेद अपने पास रखे और सरकार के कामकाज को प्रभावित नहीं होने दिया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE