pranav-pandya

नई दिल्ली । अखिल विश्‍व गायत्री परिवार के प्रमुख प्रणव पांड्या ने मोदी सरकार के ऑफर को ठुकराते हुवे राज्‍यसभा सांसद बनने से इनकार कर दिया है। मोदी सरकार ने उन्‍हें राज्‍यसभा सदस्य के लिए मनोनीत किया था। पांड्या के मनोनयन की घोषणा 4 मई को की गई थी। लेकिन 6 मई को उन्‍होंने कहा कि यह पद उनकी हैसियत के हिसाब से छोटा है।

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद शहादत मामले में छठे आरोपी सतीश प्रधान को भी मिली जमानत

पांड्या सरकार की ओर से नॉमिनेट किए गए सातवें सदस्‍य थे। गृह मंत्रालय के अनुसार केंद्र सरकार की ओर से सिफारिश जाने के बाद राष्‍ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने पांड्या को राज्‍य सभा के लिए नामांकित किया। इससे पहले 22 अप्रैल को सुब्रमण्‍यम स्‍वामी, नरेंद्र जाधव, नवजोत सिंह सिद्धू, सुरेश गोपी, स्‍वप्‍न दासगुप्‍ता और मैरीकोम को राज्‍य सभा भेजा गया था।

और पढ़े -   अर्नब गोस्वामी की बड़ी परेशानी - कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दायर किया मानहानि का मुकदमा

राज्‍यसभा के लिए कुल 12 सदस्‍य राष्ट्रपति द्वारा नॉमिनेट होते हैं। इसमें साहित्‍य, विज्ञान, खेल, कला और सामाजिक सेवाओं से जुड़े हुए लोगों को चुना जाता है। इनका चयन केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE