आखिर किस बात से नाराज बुजुर्ग पेंशनधारी पीएम मोदी को लौटा रहे हैं 7-7 रुपये...

नई दिल्ली: सुविधाओं से चल रहे वंचित वरिष्ठ नागरिकों ने ‘मामूली पेंशन’ का विरोध करने के लिए 130 बुजुर्गों ने एक दिन की पेंशन के तौर पर सात रुपये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजे हैं। ये सभी बुजुर्ग ‘पेंशन परिषद’ नाम की संस्था के बैनर तले एकत्रित हुवे थे. उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बुजुर्गों की तकलीफ की ओर सरकार का ध्यान दिलाने के लिए यह कदम उठाया गया है।

आरटीआई कार्यकर्ता अरुणा रॉय एवं निखिल डे और वरिष्ठ ट्रेड यूनियन नेता बाबा अधव के अनुसार ‘देश में नौ करोड़ ऐसे बुजुर्ग हैं, जिन्हें बुनियादी पेंशन सुविधा प्राप्त नहीं है या उनके बुढ़ापे या आर्थिक स्थिति के हिसाब से उन्हें बेहद मामूली रकम दी जा रही है।’ डे ने आगे कहा, ‘साल 2011 की जनगणना के आधार पर देश भर में करीब 10 करोड़ लोग पेंशन के लिए जरूरतमंद हैं और उन्हें इसे पाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इनमें से नौ करोड़ बहुत गरीब लोग हैं, जैसे – मजदूर, रिक्शा चलाने वाले, दिहाड़ी मजदूर, चाय बेचने वाले। वे काफी कम कमाते हैं। लिहाजा, हमें उनके जीवन को सम्मानित बनाने की जरूरत है।’ उन्होंने कहा, ‘हम उनके लिए प्रति माह 2,000 रुपये की पेंशन की मांग करते रहे हैं।’


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें