najib

पिछले 25 दिनों से लापता हुए जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्र नजीब अहमद को दिल्ली पुलिस द्वारा मानसिक रूप से अस्थिर बताने पर नजीब अहमद की बहन सदफ ने कहा कि कृपा कर के नजीब को बदनाम न करें. वो अच्छा पढ़ने वाला छात्र था. जरूरत है कि दिल्ली पुलिस सही दिशा में काम करे.

सदफ ने आगे कहा कि “जो व्यक्ति एक प्रतिष्ठित संस्थान में अध्ययन कर रहा हो वो मानसिक रूप से अस्थिर कैसे हो सकता है. मैं निवेदन करती हूं कि नजीब को बदनाम न किया जाए. उन्हें नींद से जुड़ी परेशानी थी जो कि पढ़ाई का दबाव रहने की वजह से छात्रों में होती है. उन्हें और कोई परेशानी नहीं थी.”

वहीँ आम आदमी पार्टी (आप) नेता आशुतोष ने कहा कि जब राष्ट्रपति ने हस्तक्षेप किया, उसके बाद ही दिल्ली पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई की. आशुतोष ने दिल्ली पुलिस को निशाने पर लेते हुए कहा कि हम उसकी निंदा करते हैं जिसने नजीब की छवि यह कहकर खराब करने की कोशिश की कि वह ड्रग्स लेता थ.

गौरतलब रहें कि दिल्ली पुलिस ने कहा कि नजीब अहमद डिप्रेशन का शिकार था और 4 साल से नजीब का इलाज होली फैमिली अस्पताल में चल रहा था. पुलिस के मुताबिक ये बात परिवार ने उनसे छिपाई थी. पुलिस के मुताबिक जिस बीमारी का नजीब शिकार था. इसमें अक्सर लोग घर छोड़कर चले जाते हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें