बलरामपुर | उत्तर प्रदेश में अपराधियों के तो हौसले पहले ही बुलंद दिख रहे है लेकिन अगर पुलिस भी कानून को अपने हाथ में लेने लगी तो सूबे की जनता का तो भगवान् ही रखवाला है. जी हाँ, यूपी के बलरामपुर में पुलिस ने कुछ मुस्लिम परिवार के घरो में मीट होने के शक में पहले छापा मार और बाद में उस परिवार की महिलाओं का अपमान करते हुए उन्हें थाने ले गए. इस दौरान उनके साथ कोई भी महिला पुलिस कर्मी नही थी.

और पढ़े -   तेज बहादुर की पीएम मोदी को चेतावनी - सही जांच कराओ वरना हथियार उठा लूँगा

बलरामपुर के उर्दू दैनिक राष्ट्रिय सहारा में छपी खबर के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी की कुछ लोग भेंस के मीट को बिक्री के लिए शहर में लेकर आ रहे है. सूचना पर पुलिस ने अपना जाल बिछाया और उस स्कॉर्पियो गाडी का इन्तजार करने लगे जिसमे मांस होने की सूचना मिली थी. थोड़ी देर बाद एक स्कॉर्पियो पुलिस को दिखी तो उन्होंने उस रूकने का इशारा किया. लेकिन ड्राईवर ने गाडी नही रोकी और उसको दौड़ा दिया.

गाडी का पीछा करने पर पुलिस को बलरामपुर नर्सिग होम के पास वो गाड़ी खडी मिली. गाडी से ड्राईवर गायब था लेकिन मांस गाडी के ही अन्दर था. पुलिस ने स्कॉर्पियो का शीशा तोड़कर तीन बोर मांस गाडी से निकाले. जहाँ यह गाडी मिली थी वो जगह मोहल्ला यतीमखान के पास थी. इसलिए पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए मोहल्ला यतीमखाना में छापेमारी शुरू की.

और पढ़े -   मुख्य न्यायाधीश ने रामनाथ कोविंद को दिलाई देश के 14वें राष्ट्रपति पद की शपथ

इस दौरान उन्होंने मुबीन शाह नामक व्यक्ति के घर पर रेड की और घर के सारे सामन को कंघाल मारा. बताया गया की पुलिस को वहां कुछ नही मिला. फिर भी वो मुबीन के दो बेटे और उनकी पत्नियों को जबरदस्ती थाने ले गए. चौकाने वाली बात यह है की उस समय उनके साथ कोई भी महिला पुलिस कर्मी नही थी. मुबीन के अलावा पुलिस ने मोहल्ले अलीजान पुरा में दिलवाड़ के घर पर भी छापा मारा और बिना महिला पुलिस कर्मी के ज़किुरुनिस्सा को थाने ले गए. ऐसे ही एक 90 साल के बुजुर्ग को भी थाने में ले जाया गया .

और पढ़े -   3 मिनट से ज्यादा इन्तजार करने पर आपको नही देना होगा टोल टैक्स

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE