वाराणसी | रविवार को पुलिस की समझदारी से वाराणसी में एक बड़ा साम्प्रदायिक दंगा होने से बच गया है. हमेशा से हिन्दू मुस्लिम सद्भाव के लिए जानी जाने वाली वाराणसी में रविवार को अपने फायदे के लिए संप्रदायिक जहर घोलने की कोशिश की गयी जिसको पुलिस ने नाकाम कर दिया. फ़िलहाल यहाँ शांति बनी हुई है लेकिन पुलिस कोताही बरतने के लिए तैयार नही है इसलिए अभी भी इलाके में पुलिस बल तैनात किया हुआ है.

दरअसल रविवार को बनारस के सिगरा इलाके में एक जमीन को लेकर विवाद पैदा हो गया. इस इलाके में मस्जिदों का समूह है जिसके आस पास की जमीन हमेशा से विवादों में रही है. इस जमीन पर एक वकील महेंद्र सिंह मिंटू अपने पशु बांधते है. रविवार को वकील मोहदय इस जमीन के एक हिस्से पर पुताई करने लगे. जिसका यहाँ के लोगो ने विरोध किया. तभी वहां कुछ लोग इकठ्ठा हो गए और उन्होंने पथराव शुरू कर दिया.

और पढ़े -   कैग रिपोर्ट पर बोले रक्षामंत्री - देश की सेनाओं के पास पर्याप्त मात्रा में गोला-बारूद मौजूद

इस पथराव में वकील महेंद्र घायल हो गए. जब इस बात की भनक पुलिस को मिली तो उन्होंने मौके पर पहुंचकर दोनों पक्षों को शांत कराया. लेकिन रात 9 बजे के करीब खबर आई की सैकड़ो लोग हाथो में पत्थर और डंडे लिए विवादित जमीन पर पहुँच गए है. सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने समझदारी दिखाते हुए दोनों पक्षों के मौजिज लोगो को साथ लेकर प्रभावित इलाके में मार्च किया.

और पढ़े -   लापता 39 भारतीयों की नहीं कोई जानकारी, जिंदा है या मारे गए कुछ नहीं पता

पुलिस की इस समझदारी का ही नतीजा था की दोनों पक्षों ने हाथो से पत्थर छोड़ दिए और सभी अपने घर को लौट गए. सोमवार को दिन वाराणसी में वैसे ही शुरू हुआ जैसे यहाँ होता है. लेकिन फिर भी पुलिस ने एतिहत के तौर पर पुलिस बल यहाँ तैनात किया हुआ है. उधर पुरे मामले की जानकारी लखनऊ में डीजीपी और मुख्य सचिव को भेज दी गयी है. लेकिन पुरे इलाके में पुलिस की समझदारी की लोग काफी तारीफ कर रहे है.

और पढ़े -   चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ ने कहा - भारत के लिए बड़ा खतरा बना हुआ है चीन

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE