मुजफ्फरनगर | पिछले कुछ महीनो से लोग गौकशी को लेकर कुछ ज्यादा ही सतर्क हो गए. या फिर यूँ कहे की ज्यादातर राज्यों में बीजेपी की सरकार बनने के बाद कथित गौरक्षको ने खुद ही मोर्चा सँभालते हुए गौकशी करने वालो के खिलाफ कार्यवाही करनी शुरू कर दी. लेकिन गौरक्षको की बढती गुंडागर्दी की वजह से सरकारों को बैकफूट पर आना पड़ा. जिसके बाद पुलिस को गौकशी पर रोक लगाने के निर्देश दिए गए.

लेकिन कभी कभी ऐसी स्थिति भी आती है की पुलिस को भी उलटे पाँव दौड़ना पड़ता है. चाहे फिर गलती पुलिस की हो या जनता की. एक ऐसी ही घटना में गौकशी की सूचना पर गाँव में पहुंची पुलिस पर भीड़ ने हमला कर दिया. यही नही पुलिसकर्मियों पर पथराव भी किया गया. जिसके बाद पुलिस को अपनी जान बचाने के लिए वहां से भागना पड़ा. हालाँकि गाँव वालो का कहना है की पुलिस ने गाँव में आकर लोगो से अभद्रता की.

और पढ़े -   मोदी सरकार ने अब प्लेटफार्म टिकट के दोगुने किए दाम

मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को मुजफ्फरनगर के शेरपुर गाँव में गौकशी की सूचना मिली थी. डायल 100 पर किसी ने फ़ोन कर पुलिस को बताया की शेरपुर गाँव के दो घरो में गौकशी की जा रही है. सूचना पर गाँव में पहुंची पुलिस ने जब घरो की तलाशी लेनी शुरू की तो लोग भड़क गए. उन्होंने पुलिस पर हमला कर दिया और पुलिस की एक बाइक में आग लगा दी.

और पढ़े -   मोदी सरकार रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार का मुद्दा सयुंक्त राष्ट्र में उठाए: अजमेर दरगाह दीवान

स्थिति बिगड़ता देख पुलिस वाले अपने वाहन छोड़ वहां से भाग निकले. इस दौरान भीड़ ने उन पर पथराव भी किया और उनके वाहन में आग लगा दी. हालाँकि एसएसपी अनंतदेव सिंह का कहना है की हमने अतिरिक्त पुलिस बल मंगाकर स्थिति को नियंत्रण में कर लिया है. उधर गाँव वालो ने उल्टा पुलिस पर आरोप लगाते हुए बताया की उन्होंने स्थानीय नागरिको के साथ अभद्रता और मारपीट की. जिसकी वजह से कुछ लोग घायल भी हो गए.

और पढ़े -   हिन्दू से मुस्लिम बनी दलित दंपत्ति को मिल रही जान से मारने की धमकी, पत्र लिख योगी सरकार से की सुरक्षा की मांग

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE