प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार दोपहर ईरान के दो दिवसीय दौरे पर रवाना हो रहे हैं। रविवार की शाम तेहरान पहुंचने के बाद मोदी ईरान के सुप्रीम नेता अयातुल्लाह अली खमेनी और राष्ट्रपति रोहानी से मुलाकात कर दोनों देशों के बीच कई अहम लेंगे। इनमें से चाबहार पोर्ट को लेकर होने वाला फैसला प्रमुख है।

चाबहार पोर्ट के तैयार हो जाने के बाद भारत और ईरान सीधे व्यापार कर सकेंगे। व्यापारिक जहाजों को पाकिस्तान के रूट से होकर नहीं गुजरना पड़ेगा। ईरान इए साथ इस सौदे में अफगानिस्तान का भी अहम रोल होगा। मोदी की ईरान विजिट बेहद कामयाब हो सकती है।

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

भारत की कई बड़ी कंपनियां ईरान में आईटी और दूसरे सेक्टर में काम करना चाहती हैं। इस विजिट से इन कंपनियों को फायदा होगा। ईरान चाबहार पोर्ट को डेवलप करना चाहता है और भारत इसमें मदद को तैयार है। इसके फर्स्ट फेज के डेवलपमेंट के लिए दोनों देशों मे डील होने जा रही है। इसके अलावा ईरान को ऑयल सेक्टर में भी भारत मदद करने जा रहा है।

और पढ़े -   संयुक्त राष्ट्र में बोला भारत - ओसामा को शरण देने वाला पाक बन चुका ‘टेररिस्तान’

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE