mod

रविवार को तेलंगाना के मेडक में एनटीपीसी थर्मल पावर प्रोजेक्ट के पहले फेज का उद्घाटन करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर से अपने संबोधन में कथित गौरक्षा के नाम पर मुस्लिम और दलित समुदाय पर किये जा रहें अत्याचार को लेकर कहा कि हिंदुस्तान की एकता से परेशान होने वाले मुट्ठीभर लोग गोरक्षा के नाम पर समाज में टकराव लाने की कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने आगे कहा कि विविधताओं से भरे इस देश की अखंडता औऱ एकता को कायम रखना हम सभी की जिम्मेदारी है.  सच्चे गोरक्षक और सच्चे गोसेवक भी सजग रहें ताकि मुट्ठीभर लोग आपके सच्चे काम को तबाह न कर दें. उन्होंने आगे कहा, गोरक्षा की बात गलत नहीं लेकिन, सभी देशवासियों से कहता हूं कि इस तरह के नकली गोरक्षकों से सावधान रहें, और राज्य सरकारें ऐसे लोगों की छानबीन कर उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई करें.

प्रधानमंत्री ने ‘ये फर्जी गौरक्षक जो हैं इनकी पहचान की जानी चाहिए और फिर सजा दी जानी चाहिए. इन लोगों को गाय की रक्षा से कोई मतलब नहीं है. मैं सभी राज्य सरकारों से निवेदन करता हूं कि ऐसे गौ रक्षकों की लिस्ट तैयार करें जिससे उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके.’

गौरतलब रहें कि शनिवार को पीएम मोदी ने 80 फीसद गौरक्षकों को फर्जी बताते हुए कहा था कि 70-80 प्रतिशत लोग नकली गौ-सेवक हैं. जो रात में गैर कानूनी काम करते हैं और दिन में गौसेवक बन जाते हैं


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें