A delegation of leaders from the Muslim Community, under the umbrella of the Jamiat Ulama-i-Hind, calls on the Prime Minister, Shri Narendra Modi, in New Delhi on May 09, 2017.

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के नेतृत्व में करीब 25 मुस्लिम नेताओं ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. इस दौरान तीन तलाक का मुद्दा उठा. जिस पर प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उलेमा तीन तलाक के मुद्दे पर राजनीति करने की इजाजत न दें.

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि जमीयत उलेमा ए हिंद की अगुवाई में आज करीब 25 मुस्लिम नेताओं ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की.  ‘तीन तलाक के मुद्दे पर पीएम ने दोहराया कि मुस्लिम समुदाय को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इस मुद्दे का राजनीतिकरण न हो. पीएम ने मौजूद मुस्लिम नेताओं से अनुरोध किया कि वे इस दिशा में सुधार की शुरुआत करें. मुस्लिम नेताओं ने तीन तलाक पर पीएम मोदी के रुख की प्रशंसा की.’

इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल भी मौजूद थे. शिष्टमंडल का स्वागत करते हुए डोवाल ने कहा कि आज पूरा विश्व भारत की तरफ देख रहा है ऐसे में भारतीय समाज के सभी तबकों की यह जिम्मेदारी है कि वे देश को आगे बढ़ाएं. डोवाल की इस बात से शिष्टमंडल के सभी सदस्य सहमत हुए.
पीएम से मुलाकात के बाद मौलाना एम मदनी ने कहा, ‘सभी मुद्दों पर पीएम मोदी का रुख तार्किक एवं संतोषजनक था. हम काफी उम्मीदें लेकर जा रहे हैं.’
और पढ़े -   मदरसों में राष्ट्रगान नही गाने की अपील पर मौलाना असजद रजा खान के खिलाफ कोर्ट सख्त , पुलिस से मांगी रिपोर्ट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE