यूपीए सरकार के शासनकाल में देश की प्रमुख मुस्लिम हस्तियों के बीच बातचीत को कथित तौर टैप करने के मामला तुल पकड़ता जा रहा है. ऐसे में अब केंद्र की मोदी सरकार ने इसे बड़ी गंभीरता से लिया है.

कहा जा रहा है इन सभी मुस्लिम हस्तियों के बीच उस वक्त आतंकी घटनाओं में आरोपी बनाए गए मुस्लिम युवाओं को कानूनी मदद देने को लेकर बातचीत हुई थी. ऐसे में अब मोदी सरकार ने फोन टैपिंग के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ संभावित कार्रवाई का मन बना लिया है.

सरकार के एक वरिष्ठ विधि अधिकारी ने कहा कि पहली नजर में ऐसा लगता है कि फोन टैपिंग के सिलसिले में मौजूदा प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया. जिन लोगों का फोन टैप किया गया है उनमें एक अभिनेत्री और एक प्रमुख लेखक भी शामिल हैं.

अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल ने इस संबंध में बताया कि रिकॉर्डिंग विशेष परिस्थितियों में केंद्रीय गृह मंत्रालय की अनुमति से ही की जा सकती है. उन्होंने कहा कि अगर आवश्यक प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया तो सरकार पूछ सकती है कि किन परिस्थितियों में प्रमुख मुस्लिम हस्तियों की जासूसी की गई और वह कानूनी कार्रवाई शुरू कर सकती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE