मालेगांव बम ब्लास्ट मामले में मुख्य आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को बॉम्बे हाई कोर्ट से मिली जमानत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है.

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका ने कहा गया है कि प्रज्ञा ठाकुर को स्वास्थ्य आधार पर जमानत देना ठीक फैसला नहीं है. याचिका में कहा गया है कि प्रज्ञा ठाकुर पर गंभीर चार्ज हैं ऐसे में उनको बॉम्बे हाई कोर्ट से मिला ज़मानत का फैसला ठीक नहीं है. याचिका में उनके खिलाफ मकोका की धारा हटाए जाने के फैसले को भी चुनौती दी गई है.

और पढ़े -   शिवराज में जंगलराज, बंधुआ मजदूरी से मना करने पर दलित महिला की काटी गयी नाक

यह याचिका आतंकी घटना में मारे गए एक युवक के पिता की ओर से दाखिल की गई है. बॉम्बे हाईकोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को 5 लाख रुपए की जमानत राशि और अपना पासपोर्ट एनआईए को जमा कराने और साथ ही ट्रायल कोर्ट में हर तारीख पर पेश होने के आदेश के साथ जमानत दी है.

गौरतलब रहें कि 2008  में हुए मालेगांव बम धमाके में 6 लोगों की मौत हो गई थी और तकरीबन 100 लोग घायल हुए थे. इस मामले में साध्वी प्रज्ञा पर भोपाल, फरीदाबाद की बैठक में धमाके की साजिश रचने का आरोप है. जिसके चलते साध्वी और पुरोहित को 2008 में गिरफ्तार किया गया था.

और पढ़े -   देश के मौजूदा हालात नाजी जर्मनी से भी बदतर, चल रहा संवैधानिक हॉलोकॉस्ट: चर्च

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE