एम्स में भर्ती इंशा मलिक, डॉक्टरों का कहना है कि अब वह शायद कभी नहीं देख सकेगी
एम्स में भर्ती इंशा मलिक, डॉक्टरों का कहना है कि अब वह शायद कभी नहीं देख सकेगी

कश्मीर घाटी में प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षाबलों द्वारा पेलेट गन के इस्तेमाल से बच्चें भी बुरी तरह से घायल हुए हैं. इन्ही घायलों में से एक शोपियां की 15 साल की लड़की इंशा मलिक की आंखों का इलाज एम्स के जयप्रकाश नारायण ट्रॉमा सेंटर में चल रहा है. जो एक हद तक अंधी हो चुकी है.

एम्स में सीनियर न्यूरो सर्जन दीपक अग्रवाल ने इंशा की आंखों के इलाज के बारें में कहा कि पेलेट गन के छर्रों से इंशा एक हद तक अंधी हो चुकी है. अब कॉर्निया ट्रांसप्लांट से भी उसकी आंखें ठीक नहीं हो सकतीं. पेलेट गन के छर्रों की चोट लगने से उसके माथे और सिर में भी निशान बन गए हैं. माथे पर एक सिक्के के बराबर घाव हो गया है जिसमें संक्रमण का खतरा है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार दोपहर कश्मीर में पेलेट गन के छर्रों से घायल हुए लोगों से मिलने एम्स गए थे. इंशा के पिता मुश्ताक अहमद ने राहुल को पूरी घटना बताते हुए कहा, ‘मेरी बेटी प्रदर्शन में शामिल नहीं थी. वह घर पर अपने छोटे भाइयों के साथ खेल रही थी, तभी उसने बाहर कुछ शोर सुना वह भागकर घर के अंदर गई और खिड़की के पास खड़ी होकर बाहर देखने लगी. इसी दौरान पेलेट गन से निकले छर्रे उसके माथे और चेहरे में धंस गए.’

इंशा अपने तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ी है. आंखों पर पट्टी बांधे बिस्तर पर लेटी इंशा अपनी हालत पर ध्यान न देकर पिता को होने वाली मुश्किलों को कम होने की दुआ मांग रही है. उसने अपनी मां के बारे में भी पूछा जो घर पर दो और बच्चों की देख-भाल कर रही है. मुश्ताक अपनी बेटी की तरह ही कहते हैं कि उन्हें और कोई मदद नहीं चाहिए. उन्होंने कहा, ‘डॉक्टर उसका ठीक से ख्याल रख रहे हैं. बस मैं यही दुआ करता हूं कि वह किसी तरह से ठीक हो जाए. उसे इस हालत में देखना बहुत दुख देता है.

इंशा के चेहरे और गर्दन पर पेलेट गन के छर्रों से हुए जख्म का एक्स-रे

इंशा के अलावा चार और युवा एम्स के राजेंद्र प्रसाद आई सेंटर में अपना इलाज करा रहे हैं. वहां के एक डॉक्टर ने कहा कि ये सभी पेलेट गन के छर्रों से घायल हुए हैं. इनमें से सभी की उम्र 14 से 16 साल के बीच है. उन्होंने कहा, ‘हमने एक पेशंट का ऑपरेशन किया है, जबकि बाकी सभी मरीजों की अभी देख-रेख की जा रही है.’

साभार: नवभारत टाइम्स


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें