सौजन्य से: ANI

लखनऊ | पीस पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व विधायक डॉ अय्यूब को पुलिस ने छात्रा के साथ रेप करने, उसको धमकी देने और गलत दावा देकर हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है. करीब तीन महीने पहले दर्ज हुए केस में पुलिस ने अब कार्यवाही की है. इस पुरे मामले में पुलिस की कार्य प्रणाली पर भी सवाल खड़े हुए है. पिछले तीन महीने से पुलिस अय्यूब की गिरफ़्तारी से बच रही थी.

दरअसल 23 फरवरी को नर्सिंग की एक छात्रा ने अस्पताल में दम तोड़ दिया था. 25 फरवरी को छात्रा के भाई ने मड़ियांव थाने में तहरीर देकर पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ अय्यूब पर उसकी बहन के साथ बलात्कार करने, उसको धमकाने और गलत दावा देकर उसकी हत्या करने की आरोप लगाया था. 24 वर्षीय छात्रा के भाई ने बताया की 2012 में चुनाव प्रचार के दौरान अय्यूब का उनके घर आना जाना हुआ.

उसने मुझे और मेरी बहन को अपने चुनाव प्रचार में लगा दिया. धीरे धीरे उसने मेरी बहन से नजदीकिया बढानी शुरू की और उसको अच्छे मेडिकल कॉलेज में दाखिला देने का लालच देने लगा. कुछ दिनों बाद वो उसे लेकर लखनऊ आ गए और उसका दाखिला सीतापुर रोड स्थित सेवा नर्सिंग स्कूल में करा दिया. छात्रा के भाई का आरोप है की अय्यूब उसकी बहन से मिलने सीतापुर हॉस्टल भी आते थे.

आरोप है की अय्यूब छात्रा का लगातार यौन शोषण कर रहे थे. इस दौरान उसकी तबियत ख़राब हुई तो खुद ही उसको दावा देने लगे. छात्रा के भाई का आरोप है की अय्यूब ने उसकी बहन को गलत दावा दी जिसकी वजह से उसकी किडनी ख़राब हो गयी. इस वजह से 23 फरवरी को उसकी मौत हो गयी. पुलिस में तहरीर देने के बाद भी पुलिस अय्यूब को गिरफ्तार करने से बचती रही.

उनका तर्क था की अभी चुनाव है इसलिए उनको गिरफ्तार करना ठीक नही है. चुनाव् के बाद पुलिस ने अय्यूब को थाने बुलाया लेकिन यहाँ पूछताछ करने की बजाय उसका जोरदार स्वागत किया गया. यहाँ तक की मीडिया को भी अन्दर नही जाने दिया गया. अब करीब तीन महीने बाद मड़ियांव पुलिस ने मंगलवार को अय्यूब को पूछताछ के लिए बुलाया. इसके बाद उसे अलीगंज सीओ कार्यालय ले जाया गया.

यहाँ सीओ विवेक त्रिपाठी ने अय्यूब से पूछताछ की और थोड़ी ही देर बाद मड़ियांव थाने के इंस्पेक्टर राघवन कुमार सिंह ने अपनी टीम के साथ करीब शाम के साढ़े पांच बजे उसे गिरफ्तार कर लिया. बाद में मीडिया से बात करते हुए सीओ विवेक त्रिपाठी ने बताया की शुरुआती जाँच में अय्यूब के खिलाफ रेप और धमकी देने के साक्ष्य उपलध है लेकिन गलत दावा देकर हत्या करने के सबूत अभी नही मिले है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE