गुवाहटी | फ़िलहाल देश के कई राज्य बाढ़ की चपेट में है. खासकर उत्तर पूर्व और पूर्व के कई राज्य बाढ़ की त्रासदी झेल रहे है. इनमे असम की हालत कुछ ज्यादा ख़राब है. यहाँ के कई जिले बाढ़ में डूबे हुए है. हालाँकि देश के कई सामाजिक संगठन और कुछ कॉर्पोरेट घराने बाढ़ पीडितो की मदद के लिए आगे आये हुए है. इनमे बाबा रामदेव की पतंजली आयुर्वेद ने भी असम में बाढ़ पीडितो के लिए राहत सामग्री भेजी है.

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

लेकिन ऐसा कर पतंजली आयुर्वेद ने एक बड़ी गलती कर दी. दरअसल बाढ़ पीडितो में बांटी गयी काफी सामग्री या तो एक्सपायर हो चुकी है या होने वाली है. असम के स्थानीय चैनल टाइम 8 ने अनुसार पतंजली आयुर्वेद की और से असम में 12 लाख रूपए की राहत सामग्री भेजी गयी थी. जिसमे दूध पाउडर और जूस भी शामिल थे. लेकिन इनमें से ज्यादातर सामग्री एक्सपायर हो चुकी है.

स्थानीय मीडिया में यह भी खबर है की कई लोग इन सामग्री को खाकर बीमार भी पड गए. हालाँकि जिला प्रशासन ने इस बात का खंडन करते हुए कहा की एक्सपायर सामग्री को बाढ़ पीडितो में नही बांटा गया. जो सामग्री एक्सपायर हो चुकी थी वो हमने पहले ही अलग कर ली. सिर्फ फ्रेस सामग्री ही बाढ़ पीडितो को दी गयी. लेकिन असम के मजुली जिला शाखा प्रमुख रोहित बरुआ ने इस बात की पुष्टि की है.

और पढ़े -   मालेगांव ब्लास्ट: कर्नल पुरोहित के बाद अब दो और आरोपियों को मिली जमानत

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा की 30 अगस्त को बांटे गए सामान में कुछ सामान एक्सपायर हो चूका था. इनमे दूध पाउडर और जूस भी शामिल था. रोहित ने बताया की शुरुआत में हमने यह नोटिस नही किया लेकिन जब कुछ युवको ने इसकी शिकायत जिला आयुक्त से की तब हमें इस बात की जानकारी हुई. इनमे से कुछ सामान पिछले साल अक्टूबर में तो कुछ 5 सितम्बर को एक्सपायर हुआ. इस बारे में जिलाधिकारी ने पतंजली आयुर्वेद को पत्र भी लिखा है.

और पढ़े -   गाय पर आस्था रखने वाले लोग हिंसा नहीं करते: मोहन भागवत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE