pat

रामदेव नित पतंजलि के कई विज्ञापन ऐसे हैं जिनमे पतंजलि के उत्पादों को दूसरी कंपनियों के उत्पादों से बेहतर बताया गया हैं. इन उत्पादों की गुणवता को भी पतंजलि ने बड़ा चड़ा कर पेश किया हैं. लेकिन अब पतंजलि को कई विज्ञापनों को अब वापस लेना पड़ेगा, भारतीय विज्ञापन मानक परिषद यानी एएससीआई ने कहा है कि पतंजलि के दावे उपभोक्ताओं को गुमराह कर रहे हैं.

और पढ़े -   केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का इफ्तार पार्टी को लेकर विवादित बयान कहा, नौटंकी करने की क्या जरुरत

एएससीआई की मार्च 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक 90 ऐसे विज्ञापन हैं जिन्हें मानकों का उल्लंघन करता पाया गया है. इसमें सबसे अधिक विज्ञापन पतंजलि के ही हैं. पतंजलि के केश कांति, कच्ची घानी सरसों का तेल, हर्बल वॉशिंग पाउडर और टिकिया तथा बर्तन धोने की टिकिया के विज्ञापनों पर काउंसिल ने आपत्ति जता कर ये विज्ञापन वापस लेने को कहा है.

और पढ़े -   जुनैद के संदिग्ध हत्यारों की CCTV फुटेज आई सामने, परिजनों को दिखाई गई तस्वीरें

एएससीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि पतंजलि बिना आधार के दूसरे ब्रांड को गलत बताता है. काउंसिल ने जिन अन्य कंपनियों के विज्ञापनों पर आपत्ति जताई है उनमें कैस्ट्रॉल, कल्याण ज्वेलर्स, आईटीसी, जॉनसन एंड जॉनसन आदि शामिल हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE