winter-session-parliament-expected-to-still-the-uproar-over-notbandi

नई दिल्ली | नोट बंदी पर संसद में हंगामा जारी है. विपक्ष संसद में प्रधानमत्री की मौजूदगी चाहता है जबकि सरकार इसके विरोध में है. इसी के चलते आज संसद की कार्यवाही लगातार चौथे दिन भी प्रभावित रही है. उधर बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रधानमंत्री मोदी पर जोरदार हमला बोला. मायावती ने पटना-इंदौर ट्रेन हादसे के लिए मोदी की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया.

आज सुबह संसद के दोनों सदनों में जोरदार हंगामा देखने को मिला. संसद की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने प्रधानमंत्री मोदी की संसद में मौजूदगी, नोट बंदी पर संयुक्त संसदीय समिति बनाने और नोट बंदी की वजह से मारे गए लोगो के प्रति शोक मनाये जाने की मांग की. अपनी मांग को लेकर विपक्ष ने लोकसभा और राज्यसभा में जोरदार हंगामा किया. हंगामे को देखते हुए लोकसभा 2 बजे तक और राज्यसभा आधे-आधे घंटे के लिए स्थगित की गयी.

वही सत्ता पक्ष भी प्रधानमंत्री मोदी के संसद में बयान देने को लेकर पहले ही अपनी मंशा स्पष्ट कर चुका है. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा की नोट बंदी पर हम चर्चा के लिए तैयार है. विपक्ष के हर सवाल का जवाब सम्बंधित मंत्री के द्वारा दिया जायेगा. यही नियम भी है. उधर विपक्ष ने संसद के बाहर मोदी शर्म करो शर्म करो के नारे लगाए.

संसद से बाहर निकलकर मायावती ने कहा की मोदी संसद के बाहर , हर जगह नोट बंदी पर बोल रहे है. उनको संसद में आने से डर क्यों लग रहा है. मोदी जी को गरीबो को पीड़ा पहुँचाने में अच्छा महसूस होता है. वही अगर कोई पूंजीपति खुश होता है तो उनको बहुत ख़ुशी होती है.

कानपुर रेल हादसे के लिए मोदी को जिम्मेदार ठहराते हुए मायावती ने कहा की यह हादसा टाला जा सकता था. इसके लिए मोदी जी की पूंजीवादी नीतिया और कार्यशेली जिम्मेदार है. अगर बुलेट ट्रेन में अरबो फूंकने के बजाय देश की पटरियों को ठीक कर लेते तो यह हादसा न होता.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें