अनुपम खेर ने कुछ समय पहले अवॉर्ड वापसी अभियान के खिलाफ दिल्‍ली में मार्च निकाला था। विनोद मेहता के ट्वीट के मुताबिक उस मार्च में शामिल होने वाले तीन लोगों को पद्म सम्‍मान दिया गया।

बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर को पद्म पुरस्‍कार दिए जाने की घोषणा को लेकर उन पर काफी हमले हो रहे हैं। खेर ने पद्म भूषण के लिए चुने जाने को जिंदगी की सबसे बड़ी खबर बताया। लेकिन ट्विटर पर उन पर लोग खूब कटाक्ष कर रहे हैं। बता दें कि खेर ने कुछ ही दिन पहले अवॉर्ड वापसी अभियान के खिलाफ दिल्‍ली में एक मार्च निकाला था।

और पढ़े -   यरूशलम फ़िलस्तीन और इस्लाम का है और इज़राइल इसे नहीं छीन सकता- मुफ़्ती अशफ़ाक़

anupam kher, padm awards 2016, padm bhushan

उन्‍होंने खुले आम देश में बढती कथित असहिष्‍णुता के विरोध में अवॉर्ड लौटाए जाने की मुहिम को गलत बताया था। विनोद मेहता के ट्वीट के मुताबिक उस मार्च में शामिल होने वाले तीन लोगों को पद्म सम्‍मान दिया गया। 25 जनवरी को जब पद्म पुरस्‍कार पाने वालों की सूची में उनका नाम आया तो ट्विटर पर लोगों ने अलग-अलग तरह से इसकी आलोचना की।

और पढ़े -   आरएसएस के स्वदेशी जागरण मंच ने जीएसटी का किया विरोध कहा, इससे लघु उधोग हो जायेगा चोपट

anupam kher, padm awards 2016, padm bhushan

किसी ने कहा कि राष्‍ट्रवाद का प्रमाणपत्र बांटने का स्‍टार्टअप शुरू करने के लिए खेर को सम्‍मानित किया गया है। किसी ने कहा कि अनुपम ने वैसे किसी लोगों को बर्दाश्‍त नहीं किया जिसने भारत को इनटोलरेंट कहा तो अवॉर्ड बनता ही है। किसी ने कहा- अब अनुपम खेर को एक अवॉर्ड मिल गया है जिसे वह कश्‍मीरी पंडितों की समस्‍या का समाधान नहीं करवा पाने पर लौटा सकेंगे। साभार: जनसत्ता

और पढ़े -   जीएसटी का विरोध करने वाले व्यापारियों पर लगेगी रासुका, शिवराज सरकार ने दिए आदेश

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE