नई दिल्ली. देश की बीजेपी सरकार अपने पिछले दो सालों में किए गए विकास कार्यों का बेशक गुणगान कर रही है। लेकिन जमीनी स्तर पर हकीकत कुछ और ही है। युवाओं को रोजगार पर किए गए सर्वे के ताबिक रोजगार वृद्धि की दर पिछले 7 सालों के मुकाबले सबसे निचले स्तर पर है।

modi in Brussels

सर्वे के मुताबिक पिछले एक साल में ही भारत में लगभग 2 करोड़ बेरोजगार योवाओं की संख्या बड़ी है। इस सर्वे को सीधे तौर पर मोदी सरकार की विफलताओं के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि सत्ता में आने से पहले नरेंद्र मोदी ने जो करोडों नौकरियां पैदा करने का वादा किया था वो पूरा होता नही दिख रहा है।
रिपोर्ट के मुताबिक सबसे चिंता की बात ये है कि बेरोजगारी में पड़े लिखे युवाओं की तादाद सबसे ज्यादा है। इसमें 25 फीसदी युवा 20 से 24 वर्ष के है, जबकि 25 से 29 वर्ष के युवाओं की तादाद 17 फीसदी है। 20 साल की उम्र में 14.30 करोड़ युवाओं को नौकरियों की तलाश है।
साभार: newspoint360.com
और पढ़े -   आरएसएस पर विपक्ष की आलोचना पर बिफरे योगी कहा, आरएसएस न होता तो पंजाब, बंगाल और कश्मीर होते पाकिस्तान के अंग

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE