लखनऊ  उत्तर प्रदेश विधानसभा ने वर्ष 2013 में हुए मुजफ्फरनगर दंगों के दौरान सूबे के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री मुहम्मद आजम खां का कथित ‘स्टिंग ऑपरेशन’ करने वाले एक निजी समाचार चैनल के सम्बन्धित कर्मचारियों को सदन में पेश होने के लिये एक हफ्ते की मोहलत दे दी।

 खां की मुजफ्फरनगर दंगों में संलिप्तता का दावा करते स्टिंग ऑपरेशन को अंजाम देने और उसे प्रसारित करने वाले चैनल ने एक पत्र भेजकर गुजारिश की कि चूंकि उसे अपने कुछ कर्मियों को सदन में पेश होने की नोटिस 24 फरवरी को ही मिली है। इतने कम समय में वह अपने कर्मियों को सदन में पेश करने में असमर्थ है लिहाजा उसे कुछ समय दे दिया जाए। इस पर विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय ने सम्बन्धित चैनलकर्मियों को आगामी चार मार्च को सदन में पेश होने का आदेश दिया।

विधानसभा के प्रमुख सचिव प्रदीप दुबे द्वारा सदन में पढे गए खत में चैनल ने स्टिंग की जांच करने वाली समिति की रिपोर्ट भी मांगी है। इस मामले में जवाब देते हुए आजम खां ने कहा कि उन पर लगाए गए गम्भीर आरोपों से उन्हें बहुत तकलीफ हुई है और वह इस्तीफा देने को तैयार हैं। इस मामले पर बीजेपी को छोड़कर बाकी लगभग सभी दल आजम के साथ नजर आए। नेता प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि वह आजम का दर्द समझ सकते हैं। इसी बीच, भाजपा के सदस्य शोर करते हुए सदन के बीचो-बीच आ गए। जिसके कारण हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिये स्थगित करनी पड़ी।

और पढ़े -   ट्रेन में मुस्लिम युवक की हत्या के आरोपी ने कबूला - बीफ खाने और पाकिस्तान जाने की कही थी बात

गौरतलब है कि मुजफ्फरनगर में सितम्बर 2013 में हुए दंगों के दौरान राज्य के वरिष्ठ काबीना मंत्री आजम खां की भूमिका के बारे में एक टीवी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन की जांच के लिए गठित उत्तर प्रदेश विधानसभा की जांच समिति ने खां को क्लीन चिट देते हुए संबंधित चैनल के तत्कालीन पदाधिकारियों को उनकी अवमानना का दोषी करार दिया और सदन से उनके विरुद्व समुचित दण्ड निर्धारण की संस्तुति की है।

और पढ़े -   योगी अदित्यनाथ ने पेश किया 100 दिन का रिपोर्ट कार्ड कहा, सरकार के काम से हूँ संतुष्ट

जांच समिति ने कहा था कि आजम खां के विरुद्व पर्याप्त साक्ष्य ना होते हुए भी उनको कठघरे में खड़ा करते हुए यह कहा गया कि उनके कहने से मुजफ्फरनगर दंगों के मुख्य अभियुक्त को रिहा कर दिया गया तथा एक समुदाय विशेष के व्यक्तियों की गिरफ्तारी तथा उनके खिलाफ तफ्तीश नहीं की गयी। यहां तक कहा गया कि उन्होंने इस प्रकार के निर्देश दिए थे कि ‘जो हो रहा है उसे होने दो’ जबकि ऐसा कोई भी साक्ष्य ‘आज तक’ चैनल के स्टिंग ऑपरेशन की रिकार्डिंग में नहीं मिला है।

और पढ़े -   मीरा कुमार ने राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन किया दाखिल, विपक्ष के बड़े नेता भी रहे मौजूद

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि स्टिंग ऑपरेशन के माध्यम से जिस प्रकार की विद्वेषपूर्ण एवं असत्य परिकल्पनाएं प्रसारित की गयीं उससे सामाजिक समरसता और सौहार्द को आघात पहुंचा और सांप्रदायिकता को बढ़ावा मिला। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और नेता प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य ने इसे खां का ‘चरित्र हनन’ करार दिया था। (नवभारत टाइम्स)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE