colam

नोटबंदी से अब तक देश के लोगों का ही बुरा हाल था. लेकिन ‘अतिथि देवो भव’ वाले हमारे देश में विदेशी सैलानियों को भी परेशान होना पड़ा हैं. नोटबंदी के कारण उन्हें भीख मांगने के लिए तक मजबूर होना पड़ा. आखिर में जाते वक्त वे कह गए कि ‘अब वे कभी दोबारा इंडिया नहीं आएंगे’

दरअसल कोलंबिया के पर्यटक पति-पत्नी गांसिस और अलिजेंड्रा 4 नवम्बर को भारत घूमने आये थे. दिल्ली उतरते ही उन्होंने लगभग एक लाख रुपए कैश करवाए थे और उसके बाद दिल्ली, ऋषिकेश, वाराणसी, खुजराहो समेत दस अलग-अलग जगह घूमते हुए आगरा पहुंचे.

और पढ़े -   कालगर्ल बताने पर अभिजीत भट्टाचार्य को शहला राशिद ने दिया अब करारा जवाब

लेकिन इसी बीच 8 नवम्बर को नोटबंदी का फैसला ले लिया गया. जिसके बाद उनके पुराने नोट किसी भी काम के नहीं रहे. लगातार बैंकों के चक्कर काटने के बाद बड़ी मुश्किल से यह जोड़ा आगरा पहुंचा. लेकिन इस दौरान उनके पास जेब में पुराने नोटों के अलावा कुछ नहीं था.

उनके क्रेडिट कार्ड भी लगातार ट्रांजेक्शन के कारण वे भी बन्द हो गए. एटीएम से भी उन्हें कैश नहीं मिला. मज़बूरी की हालत ये थी कि खाना खाने के लिए उन्होंने अपने पुराने 1000 और 500 के नोट बहुत ही कीमतों पर बदले. अपने आगे के राजस्थान के टूर को छोड़कर उन्होंने अपने देश लोटने का फैसला किया.

और पढ़े -   अब एनसीईआरटी की किताबों में गुजरात दंगा नहीं रहा मुस्लिम विरोधी

दिल्ली जाने के लिए उन्होंने टैक्सी की व्यवस्था की लेकिन नई करेंसी के अभाव में उन्हें टैक्सी के भाड़े के लिए हाथ फैलाने के लिए मजबूर होना पड़ा. आखिर में जाते वक्त विदेशी पर्यटक ने कहा कि भारत में नोट अगर बन्द ही करना था, तो विदेशियों का ध्यान रखा जाना चाहिए था, क्योंकि हमें तो कुछ भी पता नहीं था और हम तो भारत में घूमने और इन्जॉय करने आये थे. उन्होंने कहा, अब वे कभी दोबारा इंडिया नहीं आएंगे.

और पढ़े -   एमसीडी उपचुनावों में बीजेपी का नही खुला खाता , आप ने जीती मौजपुर की सीट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE