shank

द्वारकाशारदा पीठ के प्रमुख शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि गाय न केवल हिंदुओं की बल्कि मुस्लिमों की भी मां है. इसके पीछे तर्क देते हुए उन्होंने कहा कि इसका दूध एक धर्म को मानने वाले लोगों के समान ही दूसरे धर्म को मानने वालों के लिए भी उतना ही लाभदायक है.

उन्होंने आगे कहा कि स्वरूपानंद ने कहा कि हिंदुओं को भी गाय के दूध से उतना ही प्रोटीन मिलता है जितना मुस्लिमों को. इसलिए यह कहना एकदम सही है कि गाय न केवल हिंदुओं की बल्कि मुस्लिमों की भी मां है.

उन्होंने कहा कि कोई किसी भी धर्म से जुड़ा हो लेकिन गाय को बचाना भारतीयों के हित में है. उन्होने कहा कि भारतीय संविधान के प्रावधानों के अनुसार देश के विभिन्न हिस्सों में गौवध के खिलाफ कानून बनाए गए हैं और इसमें कुछ गलत नहीं है.

उन्होंने कहा कि गौवध के खिलाफ कानूनों को समय समय पर उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी गयी लेकिन ऐसी अपीलों को हमेशा खारिज कर दिया गया. स्वरूपानंद ने कहा कि गौवध के खिलाफ कानून बनाने के साथ ही इसके मांस की बिक्री पर भी प्रतिबंध होना चाहिए.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें