chief

चीफ जस्टिस टी एस ठाकुर ने उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश रोहिंटन एफ नरीमन की ओर से पारसी धर्म पर लिखी गई एक किताब के विमोचन के मौके पर समाज में शांति के लिए सहनशीलता पर बल दिया. उन्होंने कहा कि इंसान और ईश्वर के बीच का रिश्ता नितांत निजी होता है और इससे किसी और को कोई मतलब नहीं होना चाहिए.

‘दि इनर फायर, फेथ, चॉइस एंड मॉडर्न-डे लिविंग इन जोरोऐस्ट्रीअनिजम’ का विमोचन करते हुए उन्होंने कहा, धार्मिक मान्यताओं की वजह से इस दुनिया में ज्यादा तबाही, नुकसान और खून-खराबे हुए हैं.

उन्होंने आगे कहा, इस दुनिया में राजनीतिक विचारधाराओं से कहीं ज्यादा जानें धार्मिक युद्धों में गईं हैं. ज्यादा इंसानों ने एक-दूसरे की हत्या की है, क्योंकि उन्होंने सोचा कि उनकी राह उसके रास्ते से ज्यादा अच्छी है, क्योंकि उन्होंने सोचा कि वह एक काफिर है, क्योंकि उन्होंने सोचा कि वह एक नास्तिक हैं. धार्मिक मान्यताओं की वजह से इस दुनिया में ज्यादा तबाही, नुकसान और खून-खराबे हुए हैं.

चीफ जस्टिस ने कहा कि मेरा धर्म क्या है? मैं ईश्वर से खुद को कैसे जोड़ता हूं? ईश्वर से मेरा कैसा रिश्ता है? इन चीजों से किसी और को कोई मतलब नहीं होना चाहिए। आप अपने ईश्वर के साथ अपना रिश्ता चुन सकते हैं. उन्होंने कहा कि इंसान और ईश्वर के बीच का रिश्ता नितांत निजी और व्यक्तिगत होता है. लिहाजा, इससे किसी और को कोई मतलब नहीं होना चाहिए.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें