नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में देशविरोधी नारों के आरोप में गिरफ्तार छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने चौंकाने वाली रिपोर्ट दी है। रिपोर्ट के मुताबिक कन्हैया की अपील की जो चिट्ठी पुलिस ने जारी की थी वो उसने खुद अपनी मर्जी से नहीं लिखी थी बल्कि पुलिस ने दबाव डालकर उससे ये अपील लिखवाई थी।

और पढ़े -   आरएसएस की बहिष्कार मुहिम नहीं आई काम, भारत ने चीन से किया 33% ज्‍यादा आयात

kanhiya_kumar

आयोग की टीम ने आज तिहाड़ जेल का दौरा किया और कन्हैया से मुलाकात की। कन्हैया ने इस बात को माना कि उसके साथ पुलिस पूछताछ में किसी तरह का टॉर्चर नहीं किया गया लेकिन उसने कहा कि उसे मानसिक दबाव में लिया गया। उसकी ओर से पुलिस ने जो चिट्ठी जारी की वो उसपर दबाव डालकर जबरन लिखवाई गई थी।

और पढ़े -   डॉ कफील अहमद को रेपिस्ट बताने वाले का परेश रावल ने किया समर्थन, बरखा दत्त को बताया दीमक

रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा किया गया है कि पटियाला हाउस कोर्ट में पेशी के दौरान कन्हैया पर जो हमला किया गया वो पुलिस की ओर से सुरक्षा में बड़ी चूक की वजह से हुआ।

रिपोर्ट में कहा गया है कि घटनाक्रम को देखते हुए कन्हैया और उसके परिवार की सुरक्षा चिंता का विषय है। कन्हैया पर कोर्ट में जो हमला हुआ उसे भी पहले से नियोजित लगता है। (ibnlive)

और पढ़े -   डॉ कफील के समर्थन में आया AIIMS, कहा - नाकामी छुपाने के लिए बनाया गया बलि का बकरा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE