veg

देश में महंगाई की मार का अंदाजा इस रिपोर्ट से ही लगाया जा सकता हैं जिसमे सामने आया कि चार मे से तीन भारतीय फल और सब्जियां नहीं खरिद पाते है. देश की आबादी का जो तबका फल-सब्जियां खरीदकर खा रहे हैं, उनको अमीर वर्ग की श्रेणी में रखा गया हैं.

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल लैंसेट में प्रकाशित रिपोर्ट में अनुसार भारत अभी भी ऐसे लोगों की संख्‍या काफी ज्‍यादा है, जो अपने रोज के भोजन में सब्जियों तथा फल का उपयोग नहीं कर पाते हैं.

और पढ़े -   अच्छे दिन के बदले फिर से महंगाई की मार, थोक महंगाई दर में दोगुनी वृद्धि

18 देशों में की गई रिसर्च के अनुसार भारत में उत्‍पादित कुल फल तथा सब्जियां उन सभी लोगों तक नहीं पहुंच पाती हैं, जिन्‍हें इसकी जरूरत होती है. इसके पीछे प्रमुख और सबसे बड़ी वजह है महंगाई और कम आमदनी हैं. जिसकी वजह से जरूरतमंद लोग इसे खरीद नहीं पाते हैं.

भारत सहित निम्‍न आय वाले देशों में केवल 27 फीसदी आबादी ही अपने रोज़ के खानपान में एक या एक से ज्‍यादा फल का उपभोग करते हैं.

और पढ़े -   पेट्रोल-डीजल के बेलगाम होते दाम पर केन्द्रीय मंत्री का विवादित बयान कहा, तेल खरीदने वाला नही मर रहा भूखा, सोच समझकर लिया फैसला

नईदुनिया इनपुट के साथ


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE