नई दिल्ली : वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि अल्पसंख्यकों खासकर मुसलमानों के उत्थान के लिए विकास की ऊंची दरों से हासिल होने वाले संसाधनों का इस्तेमाल करने की जरूरत है और सरकार सभी वर्गों के विकास में एकरूपता लाने पर काम कर रही है।

मुस्लिमों के उत्थान को राष्ट्रीय संसाधनों का उपयोग जरूरी : जेटली

वित्त मंत्री ने यहां राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग (एनसीएम) द्वारा आयोजित एक व्याख्यान में यह भी कहा कि देश ने समय समय पर नीति विचलन महसूस किया लेकिन उनकी अनदेखी करना और सौहार्द्रपूर्ण तरीके से विकास की ओर बढ़ना परिपक्वता होगी।

और पढ़े -   राष्ट्रपति प्रणव मुख़र्जी का आखिरी संबोधन , लोकतंत्र में हिंसा से दूर रहने की दी हिदायत

उन्होंने विभिन्न समुदायों से संबंधित गरीबी के आंकड़े की तरफ इशारा करते हुए कहा ‘अल्पसंख्यकों, कुछ निश्चित समूहों खासकर मुसलमानों तक राष्ट्रीय संसाधन के लाभ पहुंचाने की जरूरत है।’ जेटली ने कहा कि सरकार इस आधार पर काम कर रही है कि अल्पसंख्यकों सहित सभी वर्गों के लिए ‘एकरूपता से विकास करने की जरूरत है और वह जितना संभव हो उतनी एकरूपता लाने की कोशिश कर रही है।’

और पढ़े -   मॉब लिंचिंग: विपक्ष की कानून में बदलाव की मांग को सरकार ने ठुकराया

उन्होंने कहा, ‘हमारी नीति के विचलन में हमारी भी खासी भागीदारी है। हमारा क्रियाशील और तार्किक रूप से सक्रिय लोकतंत्र है और इसलिए जहां प्रधान एजेंडा सबका कल्याण सुनिश्चित करना हो, विचलन होते हैं और उनमें से कई काफी अप्रिय विचलन भी होते हैं।’ वित्त मंत्री कहा कि ‘भारतीय समाज की परिपक्वता’ इन विचलनों की अनदेखी करने की क्षमता और हमें ऐसे रास्ते पर ले जाना होगी जहां हम समाज में सौहार्द्रपूर्ण संबंध तथा एक ऐसी विकास प्रक्रिया सुनिश्चित कर सकें जिससे हम सबको लाभ हो।’  (Zee News)

और पढ़े -   सिमी सदस्यों के एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट का मोदी और शिवराज सरकार को नोटिस

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE