देश की प्रसिद्ध नेशनल शूटर आयशा फलक ने किडनैपर्स को गोली मारकर बंधक बने देवर को छुड़ा कर बहादुरी का परिचय दिया है.

भजनपुरा इलाके में फिरौती की रकम लेकर पहुंची शूटर आयशा (33) ने अपने चचेरे देवर आसिफ मोहम्मद (21) को सकुशल मुक्त कराने के लिए बदमाशों पर गोलियां चला दी. एक बदमाश के कूल्हे में गोली लगी जबकि दूसरे के पैर को किनारे से जख्मी करते हुए निकल गई. आरोपियों की पहचान पहचान गोकलपुरी निवासी रहीस (21) और ग्रेटर नोएडा निवासी अमित गुर्जर (22) के रूप में हुई है.

और पढ़े -   तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की असफलता: इमाम बुखारी

मामला पिछले गुरूवार का है जब रात करीब 8.30 को आसिफ ने दो लोगों को दरियागंज से पिक किया. दोनों ने भोपुरा गांव जाने के लिए गाडी किराये पर ली थी. भोपुरा के करीब पहुंचते ही दोनों ने आसिफ से पैसे मांगे और उसे मारने पीटने लग गए. आसिफ के पर्स से केवल 150 रूपए निकले जिससे दोनों गुस्सा हो गए और आसिफ को जान से मरने की बात करने लगे.

और पढ़े -   कभी तीन तलाक के बचाव में दलील देने वाला मुस्लिम पर्सनल बोर्ड, सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर हुआ दो फाड़

बदमाशों ने आसिफ के घरवालों को कॉल किया और उनसे 25 हज़ार की फिरौती मांगी. बदमाशों ने आसिफ के भाई फलक शेर आलम से फिरौती की रकम शास्त्री पार्क स्थित इलाके में लाने को कहा. फलक शेर आलम ने पुलिस को इस बात की सूचना दी. तय प्लान के मुताबिक़ शूटर और उनके पति पैसे लेकर बदमाशों  के पास पहुंचे. पुलिस वह सादे कपड़ों में तैनात थी.

ईस बीच बदमाशों को पुलिस की मौजूदगी का आभास हो गया तो उन्होंने उन्हें भजनपुरा चौक पर बुलाया. बदमाश इस दौरान अकरम से फोन पर संपर्क में थे. बदमाशों ने एक पार्क के पास रुककर आयशा को पैसे के साथ भेजने के लिए कहा. पुलिसकर्मी सादी वर्दी में पहुंचे थे. कि कार चला रहे बदमाश को शक हुआ तो उसने दूसरे बदमाश को आसिफ को गोली मारने के लिए कहा. आयशा ने तुरंत दोनों बदमाशों पर गोलियां चला दी। आसिफ भी तुरंत कार से बाहर आ गया। तभी पुलिस ने बदमाशों को दबोच लिया.

और पढ़े -   देखे वीडियो: लद्दाख में चीनी सैनिकों ने पत्थरबाजी के साथ भारतीय सैनिकों से की थी हाथापाई

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE