pooja

देश में खेल और खिलाड़ी की हालत कितनी दयनीय है इसका अंदाजा इस खबर से लगाया जा सकता हैं.  एक नेशनल लेवल की खिलाड़ी इसलिए खुदखुशी करनी पड़ती हैं क्योंकि उसको फ्री हॉस्टल की सुविधा नहीं दी गई.

हैंडबॉल खिलाड़ी पूजा (20) बी.ए. सेकेंड ईयर की स्टूडेंट ने शुक्रवार सुबह घर में पंखे से फंदा लगाकर खुदकशी कर ली. खालसा कॉलेज में पढ़ाई कर रही 20 वर्षीय खिलाड़ी पूजा मूलरूप से उत्तर प्रदेश के गोंडा जिला अंतर्गत दानपूरवा पुरेनु सहारा की रहने वाली थी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर लिखे पत्र में पूजा ने अफसोस जताया कि वह गरीब है और छात्रावास के शुल्क का भुगतान नहीं कर सकती इसलिए वह मौत को गले लगा रही है. पटियाला के खालसा कॉलेज की इस छात्रा ने पत्र में प्रधानमंत्री से अपील की वह यह सुनिश्चित करें कि उसके जैसी गरीब लड़कियों को पढ़ाई की सुविधा नि:शुल्क मिले.

sus

पूजा ने अपने सुसाइड नोट में आरोप लगाया कि उसे कॉलेज में फिजिकल एजुकेशन विषय के दूसरे साल में दाखिला तो दे दिया लेकिन एक प्रोफेसर ने फ्री हॉस्टल देने से मना कर दिया. हॉस्टल न मिलने से उसका खेल करियर चौपट हो गया है, जिस कारण उसे खुदकशी करने जैसा कदम उठाना पड़ रहा है.

पूजा के परिजनों ने बताया कि पूजा को पिछले साल कॉलेज में नि:शुल्क दाखिला दिया गया था जिसमें हॉस्टल सुविधा और भोजन शामिल था लेकिन इस वर्ष उसे हॉस्टल में रहने की अनुमति देने से इनकार कर दिया गया. कॉलेज तक जाने का रोज़ का खर्चा 120 रुपए था.

पूजा के पिता सब्जी बेचने का काम करते हैं. पूजा ने वित्तीय हालत अच्छी न होने के कारण कथित तौर पर कॉलेज छोड़ने पर विचार कर रही थी. पूजा ने सुसाइड नोट में लिखा है, “उसी ने मुझे हॉस्टल का कमरा देने से इनकार किया और कहा कि वह हर दिन अपने घर से यहां आए जाए. हालांकि इससे मुझे हर महीने 3,720 रुपए खर्च करने होंगे जो मेरे पिता वहन नहीं कर सकते.”


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें