नई दिल्ली। पूर्व बीजेपी नेता और जाने माने वकील राम जेठमलानी का मानना है कि नेशनल हेराल्ड मामले में घिरीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कुछ भी गलत नहीं किया है। उनके खिलाफ दायर की गई चार्जशीट झूठी और दुर्भावनापुण है। इसलिए वो उनका केस लड़ना चाहते हैं।

जेठमलानी ने इस संबंध में सोनिया गांधी को एक पत्र भी लिखा जिसमें उन्होंने हेराल्ड केस की पैरवी करने की इच्छा जताई। उन्होंने पत्र में लिखा कि मैं जानता हूं कि आपकी पार्टी में कई बड़े वकील हैं फिर भी आपको जरूरत हो तो मेरी सेवा आपके के लिए उपलब्ध हैं। जेठमलानी ने पत्र में ये भी स्पष्ट किया कि इस मामले में पैरवी करने के लिए उन्हें फीस भी नहीं चाहिए।

बिना फीस सोनिया-राहुल का केस लड़ना चाहते हैं जेठमलानी

राम जेठमलानी ने सोनिया गांधी को 11 दिसंबर को यह पत्र लिखा बता दें इसके ठीक दो दिन पहले ही दिल्ली हाईकोर्ट ने सोनिया गांधी की उस अपील को खारिज किया था जिसमें जिला अदालत द्वारा हेराल्ड मामले में उन्हें और राहुल को समन जारी किया था। पत्र का जवाब ना मिलने पर जेठमलानी ने 12 दिसंबर को फिर सोनिया गांधी को पत्र लिखा जिसमें उन्होंने कहा कि आपने मेरे पत्र का कोई जवाब नहीं दिया, मुझे लगता है कि मुझे उस जिम्मेदारी से पीछे हट जाना चाहिए जो मैंने खुद ली है। हालांकि सोनिया गांधी ने अभी तक उनके इस पत्र का कोई जवाब नहीं दिया है।

जेठमलानी का मानना है सोनिया और राहुल गांधी हमेशा स्वच्छ राजनीति के लिए काम करते हैं। सोनिया-राहुल की गलती ना होते हुए भी राज्यसभा में जो कुछ हुआ वह सही नहीं था। जेठमलानी ने कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया-राहुल पर शक करने का कोई आधार नहीं है।

बता दें बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सोनिया और राहुल गांधी पर ये केस किया है। दोनों पर अब बंद हो चुके अखबार नेशनल हेराल्ड के शेयरों के हस्तांतरण में हेराफेरी का आरोप है। साभार: ibnlive


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Related Posts

loading...
Facebook Comment
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें