तमिल नाडु के 18 साल के रिफत शारूक द्वारा बनाए गए दुनिया के सबसे छोटे सैटेलाइट को नासा ने लॉन्च कर दिया है. नासा की और से लांचिंग के साथ ही ये एक एतिहासिक कीर्तिमान भी बन गया है.

इस  सैटेलाइट को पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर ‘कलामसैट’  का नाम दिया गया. इसे बनाने में 1 लाख रुपए का खर्च आया. इसका डिजाइन रिफत शारूक ने बनाया जो 12वीं क्लास में पढ़ते है. नासा के वालॉप्स आइलैंड स्थिति फैसिलिटी से एक साउंडिंग रॉकेट के जरिए सैटेलाइट कैलमसैट (KalamSat) को लॉन्च कर दिया.

और पढ़े -   भारत में रह रहे रोहिंग्या मुस्लिम बोले - हमें मार दो लेकिन म्यांमार मत भेजों

सैटेलाइट लॉन्च को लेकर शारूक ने कहा, “लॉन्च मिशन का पूरा समय लगभग 240 मिनट का रहा. वहीं सैटेलाइट ने 12 मिनट तक माइक्रो ग्रेविटी वातावरण में काम भी किया.”तमिल नाडु के एक छोटे से शहर पल्लापट्टी में रहने वाले रिफत शारूक ने इसे  ‘क्यूब्स इन स्पेस’ कॉन्टेस्ट के तहत डेवलप किया था.

”नासा के ‘क्यूब्स इन स्पेस’ कॉन्टेस्ट में 57 देशों के 86,000 मॉडल्स पेश किए गए थे। जिसमें ले कुल 80 मॉडल सिलेक्ट हुए, इनमें कलामसैट भी शामिल था.

और पढ़े -   दलाल बन गए बेरोजगार, वे ही कर रहे हल्ला और कह रहे रोजगार नहीं है: पीएम मोदी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE