naroda-patiya-m27923

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात के नरोदा पाटिया दंगा मामले में आदेश जारी कर दंगों की सुनवाई छह महीने में पूरी करने का आदेश दिया. इस दंगें में मुस्लिम समुदाय के 97 लोगों की हत्या कर दी गई थी और 33 लोग घायल हुए थे.

गुजरात दंगों से जुड़े नौ मामलों में से इस मामले की जांच एसआईटी कर चुकी हैं. अगस्त 2009 में  इस मामले ने मुकदमा शुरू हुआ था. इसमें 62 आरोपियों के खिलाफ आरोप दर्ज किए गए थे. अदालत ने सुनवाई के दौरान 327 लोगों के बयान दर्ज किए थे  जिसमें पत्रकार, कई पीड़ित, डॉक्टर, पुलिस अधिकारी और सरकारी अधिकारी शामिल थे.

और पढ़े -   मोदी के भाषण पर उमर अब्दुल्ल्ला का तंज कहा, उम्मीद है उनकी दलील सुरक्षा बलों के लिए भी

29 अगस्त को अदालत द्वारा फैसला सुनाया गया था बीजेपी विधायक और नरेन्द्र मोदी सरकार में पूर्व मंत्री माया कोडनानी और बजरंग दल के नेता बाबू बजरंगी को हत्या और षड़यंत्र रचने का दोषी पाते हुए सजा सुनाई थी.

यह घटना 28 फरवरी, 2002 को हुई थी. इसी दिन विश्व हिन्दू परिषद ने बंद का आह्वान किया था. जिसके बाद पुरे राज्य में मुस्लिम समुदाय के लोगों को निशाना बनाया गया था.

और पढ़े -   ABVP कार्यकर्ताओ ने मुस्लिम प्रिंसिपल को झंडा फहराने से रोका, जबरदस्ती कहलवाया वन्देमातरम

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE